कविता : मम्मी का हलवा

कविता : मम्मी का हलवा, मैं कहता हर रोज बनाना, ऐसा हलवा मुझे खिलाना, मम्मी तुम कितनी प्यारी हो, ऐसे ही हर रोज खिलाना।। ताकतवर मैं बन जाऊंगा, सभी काम में कर पाऊंगा, बदमाशों से नहीं डरूंगा, उनको मार भगाऊंगा।। कविता नन्दिनी, आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश)

मम्मी मेरी झटपट आती
हलवा मेरे लिए बनाती
गरम-गरम हलवा ठंडा कर
अपने हाथो मुझे खिलाती।।

जब हलवा बनता है घर में
उसकी खुशबू है ललचाती
हलवा खाने की लालच में
बेचैनी है बढ़- बढ़ जाती।।

मैं कहता हर रोज बनाना
ऐसा हलवा मुझे खिलाना
मम्मी तुम कितनी प्यारी हो
ऐसे ही हर रोज खिलाना।।

ताकतवर मैं बन जाऊंगा
सभी काम में कर पाऊंगा
बदमाशों से नहीं डरूंगा
उनको मार भगाऊंगा।।


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

कविता : मम्मी का हलवा, मैं कहता हर रोज बनाना, ऐसा हलवा मुझे खिलाना, मम्मी तुम कितनी प्यारी हो, ऐसे ही हर रोज खिलाना।। ताकतवर मैं बन जाऊंगा, सभी काम में कर पाऊंगा, बदमाशों से नहीं डरूंगा, उनको मार भगाऊंगा।। कविता नन्दिनी, आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश)

देवभूमि समाचार, हिन्दी समाचार पोर्टल में पत्रकारों के समाचारों और आलेखों को सम्पादन करने के बाद प्रकाशित किया जाता है। इस पोर्टल में अनेक लेखक/लेखिकाओं, कवि/कवयित्रियों, चिंतकों, विचारकों और समाजसेवियों की लेखनी को भी प्रकाशित किया जाता है। जिससे कि उनके लेखन से समाज में अच्छे मूल्यों का समावेश हो और सामाजिक परिवेश में विचारों का आदान-प्रदान हो।

देश-विदेश और प्रदेशों के प्रमुख पयर्टक और धार्मिक स्थलों से संबंधित समाचार और आलेखों के प्रकाशन से पाठकों के समक्ष जानकारी का आदान-प्रदान किया जाता है। पाठकों के मनोरंजन के लिए बॉलीवुड के चटपटे मसाले और साहित्यकारों की ज्ञान चासनी में साहित्य की जलेबी भी देवभूमि समाचार समाचार पोर्टल में प्रकाशन के फलस्वरूप परोसी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights