जिला अस्पताल में पानी की आपूर्ति ठप, मरीजों के हलक सूखे |

जिला अस्पताल में पानी की आपूर्ति ठप, मरीजों के हलक सूखे

जिला अस्पताल में पानी की आपूर्ति ठप, मरीजों के हलक सूखे… जिला अस्पताल में जलापूर्ति ठप रहने से शौचालयों की भी सफाई नहीं हो सकी है और वे गंदगी से पटे रहे। सफाई के लिए पानी नहीं मिला जिससे मरीज भी शौचालय का उपयोग नहीं कर सके। 

अल्मोड़ा। जिला अस्पताल को जलापूर्ति करने वाली लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। ऐसे में यहां पानी की आपूर्ति ठप रही और मरीज-तीमारदारों को पानी के लिए परेशान होना पड़ा। उन्हें बाजार से बोतल बंद पानी खरीदकर प्यास बुझाने के लिए मजबूर होना पड़ा। अस्पताल प्रबंधन घंटों खराबी खोजता रहा जिसमें उसके पसीने छूटे।

शनिवार को जिला अस्पताल को जलापूर्ति करने वाली पेयजल लाइन एडम्स स्कूल के पास क्षतिग्रस्त हो गई। अस्पताल में पानी नहीं पहुंचा। छत पर रखी टंकी खाली हो गई और नल सूख गए। मरीजों और तीमारदारों को पीने का पानी भी नहीं मिल पाया। मरीज और तीमारदार पानी के लिए भटकते रहे लेकिन उन्हें राहत नहीं मिली।

थानों के पास युवती का शव मिलने से सनसनी

ऐसे में उन्हें बाजार से बोतल बंद पानी खरीदना पड़ा, तब उनकी प्यास बुझी। पानी न आने की सूचना पर अस्पताल प्रबंधन खराबी खोजता रहा लेकिन घंटों बाद उसे पेयजल लाइन टूटने का पता चला। कड़ी मशक्कत के बाद लाइन जोड़ी गई और अस्पताल में पेयजल आपूर्ति बहाल हुई।

घंटों बाद जब अस्पताल प्रबंधन को पेयजल लाइन टूटने का पता चला तो टीम मौके पर पहुंची। यहां एक घर के पास सुबह से टूटी लाइन से पानी बहता रहा जो घरों में घुस रहा था। टीम को देखकर आसपास के लोगों में गुस्सा भड़क गया। इस दौरान अस्पताल की टीम और लोगों के बीच कहासुनी हुई।

लोगों ने कहा कि लाइन टूटने के बाद लीकेज पानी उनके घरों में घुस रहा है। उन्होंने लाइन को यहां से शिफ्ट करने की मांग की। मामले को शांत कराने प्रभारी पीएमएस डॉ. अखिलेश को मौके पर पहुंचना पड़ा। उन्होंने मरीजों की परेशानी का हवाला देते हुए लोगों को समझाया। इसके बाद लाइन ठीक की जा सकी।



रिमझिम बारिश में ही कई सड़कें जलमग्न

जिला अस्पताल में जलापूर्ति ठप रहने से शौचालयों की भी सफाई नहीं हो सकी है और वे गंदगी से पटे रहे। सफाई के लिए पानी नहीं मिला जिससे मरीज भी शौचालय का उपयोग नहीं कर सके। सफाई नहीं होने से इनसे उठने वाली दुर्गंध से सभी को परेशानी झेलनी पड़ी।



उपचार के लिए अस्पताल पहुंची। यहां पीने के लिए पानी भी नहीं मिला। दुकान से बोतल बंद पानी खरीदकर पीना पड़ा।

तुलसी देवी, मरीज, पल्यूड़ा



ऋण दिलाने का झांसा देकर 15 लाख की ठगी

सुबह से ही पानी के लिए भटकते रहे। पानी न होने से शौचालय का भी प्रयोग नहीं कर सके। इस तरह की लापरवाही ठीक नहीं है।

मदन सिंह, तीमारदार, शीतलाखेत



जिला अस्पताल को जलापूर्ति करने वाली लाइन सड़ने से टूट गई, जिसे ठीक कर लिया गया। आसपास के लोगों को भी समझाया गया। जल्द व्यवस्था पटरी पर आ जाएगी।

– डॉ. अखिलेश, प्रभारी पीएमएस, जिला अस्पताल, अल्मोड़ा


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

जिला अस्पताल में पानी की आपूर्ति ठप, मरीजों के हलक सूखे... जिला अस्पताल में जलापूर्ति ठप रहने से शौचालयों की भी सफाई नहीं हो सकी है और वे गंदगी से पटे रहे। सफाई के लिए पानी नहीं मिला जिससे मरीज भी शौचालय का उपयोग नहीं कर सके। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights