लघुकथा : टिकट

लघुकथा : टिकट, उम्मीदवार धनकुबेर होना चाहिए, कम से कम पचास-सौ मुकदमे उसके नाम में पंजीकृत होने चाहिए। झूठ इमानदारी से बोल लेता हो। ✍️ मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, आगरा (उत्तर प्रदेश)

चुनावी बिगुल बज चुका था। बड़ी-बड़ी पार्टियों से टिकट प्राप्त करने के लिए उठापटक होने लगी। टिकट प्राप्ति के लिए ऐसे पार्टी कार्यकर्ताओं ने भी इच्छा जाहिर की जिन्होंने अपनी आधी से ज्यादा उम्र पार्टी के झंडे उठाने, पोस्टर- बैनर चिपकाने, दरी बिछाने व बड़े नेताओं के तलवे चाटने में कभी कोई आनाकानी नहीं की।

परंतु इन बेचारे समर्पित पार्टी कार्यकर्ताओं को क्या पता कि टिकट प्राप्त करने के लिए एक विशेष योग्यता की जरूरत होती है, खासकर भारतीय वर्तमान राजनीति में…।

“उम्मीदवार धनकुबेर होना चाहिए, कम से कम पचास-सौ मुकदमे उसके नाम में पंजीकृत होने चाहिए। झूठ इमानदारी से बोल लेता हो। जनता को बहुत प्यार से गुमराह कर सकता हो। दंगे भड़काने व जातिवाद का जहर घोलने में माहिर हो। माहौल के हिसाब से मुखोटे बदल लेता हो।”

उपर्युक्त योग्यता समर्पित कार्यकर्ता में तो है नहीं इसलिए, अब बेचारा तन- मन -धन से पूर्ण समर्पित कार्यकर्ता टिकट न मिलने पर स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहा है। बड़ा राजनैतिज्ञ बनने का उसका सपना टूटकर कांच की तरह बिखर चुका है।

खाली होते गांव, पलायन की वजह मजबूरी भी


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

लघुकथा : टिकट, उम्मीदवार धनकुबेर होना चाहिए, कम से कम पचास-सौ मुकदमे उसके नाम में पंजीकृत होने चाहिए। झूठ इमानदारी से बोल लेता हो। मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, आगरा, उत्तर प्रदेश

देवभूमि समाचार, हिन्दी समाचार पोर्टल में पत्रकारों के समाचारों और आलेखों को सम्पादन करने के बाद प्रकाशित किया जाता है। इस पोर्टल में अनेक लेखक/लेखिकाओं, कवि/कवयित्रियों, चिंतकों, विचारकों और समाजसेवियों की लेखनी को भी प्रकाशित किया जाता है। जिससे कि उनके लेखन से समाज में अच्छे मूल्यों का समावेश हो और सामाजिक परिवेश में विचारों का आदान-प्रदान हो।

स्वंय से बडा कोई गुरु नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights