कविता : डगरिया

कविता : डगरिया… कवि रसखान की एक सवैया गोकुल आएंगे जब सांवरिया ब्रज में बजे कोई बंसुरिया कोयल सबको सुबह पहर में पास बुलाए राधा नदी किनारे हंसकर आये उसे कोई चैत का गीत सुनाए!… राजीव कुमार झा

बीत गयी
सारी उमरिया
चलती रहती
हवा संग
तुम वही डगरिया
बालम संग भावे
यह नगरिया
धूप नदी में

डूबी गगरिया
आकाश में छाये
काली बदरिया
पिया निरमोहिया
नदी में गहरी
भंवर जलेबिया
पुरवईया के झोंको से
इस गहन रात में

अब संग तुम्हारे
चुप दिखते
जो ताल तलैया
सभी दिशा में
बिजली चमके
अरी सुंदरी
तुम भुलभूलैया
याद आती
जो तुम रोज सुनाती

कवि रसखान की
एक सवैया
गोकुल आएंगे
जब सांवरिया
ब्रज में बजे
कोई बंसुरिया

कोयल सबको
सुबह पहर में
पास बुलाए
राधा नदी किनारे
हंसकर आये
उसे कोई चैत का
गीत सुनाए!


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

कविता : डगरिया... कवि रसखान की एक सवैया गोकुल आएंगे जब सांवरिया ब्रज में बजे कोई बंसुरिया कोयल सबको सुबह पहर में पास बुलाए राधा नदी किनारे हंसकर आये उसे कोई चैत का गीत सुनाए!... राजीव कुमार झा

देवभूमि समाचार की टीम के द्वारा देश-प्रदेश की सूचना और जानकारियों का भी प्रसारण किया जाता है, जिससे कि नई-नई जानकारियां और सूचनाओं से पाठकों को लाभ मिले। देवभूमि समाचार समाचार पोर्टल में हर प्रकार के फीचरों का प्रकाशन किया जाता है। जिसमें महिला, पुरूष, टैक्नोलॉजी, व्यवसाय, जॉब अलर्ट और धर्म-कर्म और त्यौहारों से संबंधित आलेख भी प्रकाशित किये जाते हैं।

देश-विदेश और प्रदेशों के प्रमुख पयर्टक और धार्मिक स्थलों से संबंधित समाचार और आलेखों के प्रकाशन से पाठकों के समक्ष जानकारी का आदान-प्रदान किया जाता है। पाठकों के मनोरंजन के लिए बॉलीवुड के चटपटे मसाले और साहित्यकारों की ज्ञान चासनी में साहित्य की जलेबी भी देवभूमि समाचार समाचार पोर्टल में प्रकाशन के फलस्वरूप परोसी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights