कविता : मान-सम्मान

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

हिंसा , दंगा-फसाद फैलाने से
मान – सम्मान नहीं मिलता हैं
मान – सम्मान पाने के लिए मन में
दया , करूणा , ममता व वात्सल्य का भाव होना चाहिए

लूट – खसोट व किसी का अपमान करने से
मान – सम्मान नहीं मिलता हैं
मान – सम्मान पाने के लिए
परोपकार के कार्य करने पडते हैं

नफरत , घृणा व ईर्ष्या फैलाने से
मान – सम्मान नहीं मिलता हैं
मान – सम्मान पाने के लिए
ईमानदारी व निष्ठा का भाव चाहिए

किसी की चुगली या बुराई करने से ,
किसी का दिल दुखाने से , व्यभिचार करने से
मान – सम्मान नहीं मिलता हैं

मान – सम्मान पाने के लिए
बडे – बुजुर्गों का सम्मान कीजिए
सभी के साथ समान व्यवहार कीजिए

ईश्वर की आराधना कीजिए
पीडित मानवता की सेवा कीजिए और
जीवन में सदा सत्य बोलिए


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!