बिहार की जेल से अपराधियों रिहा कराने में वामपंथियों का भी हाथ : राणा

बिहार की जेल से अपराधियों रिहा कराने में वामपंथियों का भी हाथ : राणा, बिहार राज्य के गोपालगंज के तत्कालीन दलित डीएम “जी कृष्णैया हत्याकांड” में पहले आनंद मोहन को मौत की सजा हुई थी। सतीश राणा, वाम विचारक

पहले बिहार के जेल मैनुअल में लिखा था कि सरकारी अफसर की ऑन ड्यूटी हत्या करने पर उम्र कैद की सजा खत्म होने पर रिहाई नहीं होगी। यानी अगर आप किसी सरकारी अफसर की हत्या करते हैं और अगर आप को उम्र कैद की सजा मिलती है तो जेल में आप अच्छा व्यवहार भी करते हैं तो भी आप की रिहाई नहीं होगी। लेकिन अब इस दुर्दांत अपराधी को बाहर निकालने के लिए नीतीश कुमार ने इस लाइन को ही हटा दिया है और इसे अपवाद की श्रेणी से हटाकर सामान्य श्रेणी में ला दिया। बदले हुए नियम के अनुसार, अब ऑन ड्यूटी सरकारी सेवक की हत्या अपवाद नहीं होगी। यानी अपनी जान की बाजी लगाकर लोगों की सेवा करने वाले ऑफिसर की हत्या करने वाले हत्यारे अब हत्या करके जेल में कुछ दिन अच्छे से रहेंगे और बाहर आ जाएंगे।

नीतीश सरकार द्वारा जेल कानून में बदलाव किए जाने के बाद गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 20 अप्रैल को हुई राज्य दंडादेश परिहार पर्षद की बैठक में इन कैदियों को छोड़ने से संबंधित प्रस्ताव पर सहमति बनी। इसके बाद विधि विभाग ने सभी पहलुओं पर समीक्षा करने के बाद इसकी अनुमति देते हुए आदेश जारी कर दिया। यह आदेश विधि सचिव रमेश चंद्र मालवीय की तरफ से जारी किया गया है। इसके आधार पर जेल निदेशालय ने सभी संबंधित कैदियों को छोड़ने से जुड़ा निर्देश संबंधित जेलों को भेज दिया।

बिहार राज्य के गोपालगंज के तत्कालीन दलित डीएम “जी कृष्णैया हत्याकांड” में पहले आनंद मोहन को मौत की सजा हुई थी। फिर बाद में मौत सजा को आजीवन कारावास मे बदल दिया गया । आजीवन कारावास की सजा काट रहे पूर्व सांसद आनंद मोहन को जेल से स्थायी तौर पर रिहा करने का आदेश जारी हो गया है। आनंद मोहन के साथ दर्जन भर जेलों में बंद 27 बंदियों को मुक्त करने का आदेश दिया गया है नितिश सरकार की असम्बेदनशिलता को देखिये 6 या 8 महीना पहले एक मृत कैदी का नाम भी रिहाई वाले लिस्ट मे शामिल हैं।नितिश जी आरा कोर्ट परिसर मे बम ब्लाष्ट आरोपी बढई बिश्वकर्मा लम्बू शर्मा जो कई वर्षो से जेल मे बन्द हैं इस आरोपी बढई बिश्वकर्मा लम्बू शर्मा को भी रिहाई लिस्ट मे शामिल कर लेते।तो क्या हो जाता? दूर्रांत अपराधी आनंद मोहन के साथ इन बंदियों की रिहाई हो रही हैं।


कैदी का नाम
जेल का नाम
कलक्टर पासवान उर्फ घुरफेकन
मंडल कारा, आरा
किशुनदेव राय
मुक्त कारागार, बक्सर
सुरेंद्र शर्मा
केंद्रीय कारा, गया
देवनंदन नोनिया
केंद्रीय कारा, गया
रामप्रवेश सिंह
केंद्रीय कारा, गया
विजय सिंह उर्फ मुन्ना सिंह
केंद्रीय कारा, मुजफ्फरपुर
रामाधार राम
मुक्त कारागार, बक्सर
दस्तगीर खान
मंडल कारा, अररिया
पप्पू सिंह उर्फ राजीव रंजन सिंह
केंद्रीय कारा, मोतिहारी
अशोक यादव
मंडल कारा, लखीसराय 
शिवजी यादव
आदर्श केंद्रीय कारा, बेउर
किरथ यादव
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर
राजबल्लभ यादव उर्फ बिजली यादव
मुक्त कारागार, बक्सर
अलाउद्दीन अंसारी
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर
मो. हलीम अंसारी
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर
अख्तर अंसारी
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर
मो. खुदबुद्दीन
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर  
सिकंदर महतो
मंडल कारा, कटिहार
अवधेश मंडल
विशेष केंद्रीय कारा, भागलपुर
पतिराम राय
मुक्त कारागार, बक्सर
हृदय नारायण शर्मा उर्फ बबुन शर्मा
केंद्रीय कारा, गया
मनोज प्रसाद
आदर्श केंद्रीय कारा, बेउर
पंचा उर्फ पंचानंद पासवान
केंद्रीय कारा, भागलपुर
जितेंद्र सिंह
मुक्त कारागार, बक्सर
चंदेश्वरी यादव
केंद्रीय कारा, भागलपुर
खेलावन यादव
मंडल कारा, बिहारशरीफ

फासिष्टो को मात देने के नाम पर राजद जेडयू के साथ भाकपा माले के नेता महागठबंधन सरकार के सहयोगी के रुप मे शामिल हैं लेकिन दलितो के बहे खुन की कीमत पर ऐसे महागठबंधन मे शामिल होना शहीद दलितो के साथ धोखा हैं ये वही राजद जेडयू हैं एक ने भाकपा माले के बिधायको को तोड रणबीर सेना से मिलकर द्रजनो गावों मे सैकडो गरीब दलितो का नरसंहार कारवाया?

दुसरे ने सैकडो सबुत गवाह होने के बावजुद नरसंहार के आरोपियो को न्यायलय से बरी कराय़ा,?ऐसे लोगो के सानिध्य मे महागठबंधन चल रहा हैं ऐसे मे आनन्द मोहन के रिहाई मे भाकपा माले के नेता भी बराबर के ज़िम्मेवार हैं भाकपा माले के नेताओ को शायद याद नही या जान बुझकर कर रहे हैं ये वही आनंद मोहन + प्रभूनाथ सिंह थे जिसने आरा के रमना मैंदान की एक सभा मे भाकपा माले को खुला चुनौती दिया था कहा था कि भाकपमाले के लोग एक मारते हैं तो तुम 10 को मरो।



आनन्द मोहन ने कहा था कि अगर भाकपा माले मे ताकत हैं तो कही भी झंडा गाडो देखते हैं कौन पहले उखाडता हैं यही नही इसने रणबीर सेना को आधुनिक हथियार भी दिये थे अगर सही मायने भाकपा माले अगर दलितो की अगुआई करती हैं तो तत्काल दलित के हत्यारे के रिहाई पर महागठबंधन से अलग हो जाना चाहिए नही तो आने वाले किसी चुनाव मे भाकपा माले का फजीहत होगी।जनता को जवाब देना इन बामपंथीओ को मुश्किल हो जायेगा।क्योकि नीतीश सरकार की दलित विरोधी व अपराध समर्थक कार्य से बिहार ही नही देशभर के दलित समाज में काफी रोष है।

समाजवाद का नाटक करते हैं लालू यादव


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

बिहार की जेल से अपरधियों रिहा कराने में वामपंथियों का भी हाथ : राणा, बिहार राज्य के गोपालगंज के तत्कालीन दलित डीएम "जी कृष्णैया हत्याकांड" में पहले आनंद मोहन को मौत की सजा हुई थी। सतीश राणा, वाम विचारक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights