बैरंग जिन्दगी का सपना हूं मैं…

इस समाचार को सुनें...

राजेश ध्यानी “सागर”

बैंरंग जिदंगीं का
सपना हूं मैं ,
दिखता तो सब है
फिर भी ,
अकेला हूं मैं ।

संघर्ष की ज्योंति बना
जलता रहा ,तपता रहा
फिर भी अंधेंरे मे ,
अकेला हूं ।

इक आस के लिये
जोडें थे सपनें
इक आस के लिये
बुने थे सपने ,
उसके लिये भुलाया
खुद को वो
मुस्कुरा रही आज
क्योंकि मैं ,
अकेला हूं ।

क्यूं लालच में
तेरे पड़ा
क्यूं सपने तेरे संज़ोये ।
जैसे तू बढती गयीं ,
मैं सीना तान खड़ा ,
मैं अभागा जान न सका
सींने में पांव

रखा है उसने
अब इतनी ताकत कहां
हटा सकता नहीं ,
क्योंकि मैं
अकेला हूं।

👉 देवभूमि समाचार के साथ सोशल मीडिया से जुड़े…

WhatsApp Group ::::
https://chat.whatsapp.com/La4ouNI66Gr0xicK6lsWWO

FacebookPage ::::
https://www.facebook.com/devbhoomisamacharofficialpage/

Linkedin ::::
https://www.linkedin.com/in/devbhoomisamachar/

Twitter ::::
https://twitter.com/devsamachar

YouTube ::::
https://www.youtube.com/channel/UCBtXbMgqdFOSQHizncrB87A


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

राजेश ध्यानी “सागर”

सम्पादक, काफ़ल एवं कवि

Address »
144, लूनिया मोहल्ला, देहरादून (उत्तराखण्ड) | सचलभाष एवं व्हाट्सअप : 9837734449

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!