संगम नगरी प्रयागराज में आपको मंत्रमुग्ध कर सकती हैं ये जगहें | Devbhoomi Samachar

संगम नगरी प्रयागराज में आपको मंत्रमुग्ध कर सकती हैं ये जगहें

प्रयागराज में कई तरह के किले और म्यूजियम भी हैं। लेकिन अगर आप कला के शौकीन हैं, तो आपको प्रयागराज म्यूजियम एक्सप्लोर करना चाहिए। चंद्रशेखर आज़ाद पार्क के पास यह म्यूजिय़म है। जिसको देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां पहुंचते हैं। इस म्यूजियम में आपको भारत के इतिहास, संस्कृति, विरासत और स्वतंत्रता आंदोलन की झलक देखने को मिलेगी।

संगम नगरी प्रयागराज की खूबसूरती से भला कौन वाकिफ नहीं है। प्रयागराज भारत के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। यह शहर गंगा-यमुना नदियों के संगम पर बना है। भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के सबसे पुराने शहरों में प्रयागराज की गिनती होती है। इसी वजह से यह दुनिया भर के पर्यटकों का एक पॉपुलर डेस्टिनेशन है। यहां पर हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं। संगम नगरी प्रयागराज को ऐतिहासिक औऱ धार्मिक नगरी माना जाता है। प्रयागराज में घूमने के लिए कई फेमस स्थान हैं।

ऐसे में अगर आप भी घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो यह आर्टिकल आपके लिए हैं। आज इस आर्टिकल के जरिए हम आपको प्रयागराज से जुड़े कुछ अमेजिंग फैक्ट्स से कुछ फेमस जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं। ऐसे में आप प्रयागराज को बेहद अच्छे तरीके से एक्सप्लोर कर सकते हैं। इलाहाबाद का किला यहां पर देखने और घूमने के लिए सबसे बेहतरीन जगहों में से एक है। लगभग साल 1583 के आसपास में अकबर के शासनकाल के दौरान गंगा-यमुना नदी के किनारे स्थित प्रयागराज किला बनवाया गया था। इस किले की संरचना और वास्तुकला बेहद अद्भुत है। प्रयागराज में घूमने के लिए दुनिया भर के हजारों पर्यटकों के लिए प्रयागराज का किला एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। हर बार पूर्ण रूप कुंभ मेले के दौरान ही इस किले को पर्यटकों के लिए खोला जाता है।

नीतीश के राजग में वापसी के संकेतों के बीच महागठबंधन में अनिश्चितता

इसके अलावा प्रयागराज में कई तरह के किले और म्यूजियम भी हैं। लेकिन अगर आप कला के शौकीन हैं, तो आपको प्रयागराज म्यूजियम एक्सप्लोर करना चाहिए। चंद्रशेखर आज़ाद पार्क के पास यह म्यूजिय़म है। जिसको देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां पहुंचते हैं। इस म्यूजियम में आपको भारत के इतिहास, संस्कृति, विरासत और स्वतंत्रता आंदोलन की झलक देखने को मिलेगी। इसके अलावा इस म्यूजियम में आपको राजस्थान से लघु चित्र, कौशाम्बी से टेराकोटा, रॉक मूर्तियां, बंगाल स्कूल ऑफ आर्ट से साहित्यिक और कलाकृति देखने को मिलेंगी। यह म्यूजियम भारतीय इतिहास का खजाना है।

आजादी के बाद पहली बार कलियर शरीफ दरगाह पर फहराया तिरंगा

प्रयागराज के आनंद भवन के बगल में जवाहर तारामंडल स्थित है। इस तारामंडल को साल 1979 में बनाया गया था। बताया जाता है कि यहां पर विज्ञान और इतिहास का सही संगम आपको देखने को मिलेगा। जवाहर तारामंडल में जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल लेक्चर, अंतरिक्ष से जुड़े कई शो और मेहमानों के लिए सौर मंडल भी देखने को मिलेगा। जो भी लोग ग्रहों की चाल के बारे में जानना चाहते हैं, वह यहां पर होने वाले शो का हिस्सा बन सकते हैं।

प्रयागराज में खुसरो बाग सबसे फेमस पर्यटन स्थल है। खुसरो बाग का अपना एक अलग ऐतिहासिक महत्व है। बता दें कि खुसरो बाग की चारदीवारी मुगल वास्तुकला का एक विशाल नमूना पेश करता है। इस बाग में जहांगीर परिवार की तीन बलुआ पत्थर की कब्रें हैं। जिनमें उनकी पत्नी शाह बेगम, बेटा खुसरो मिर्जा और बेटी सुल्तान निहार बेगम की कब्रें हैं। जहांगीर के दरबार के कलाकार अजा रेजा को खुसरो बाग की डिजाइन का श्रेय दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights