परिजनों को मिली ऐसी खबर की छा गया मातम | Devbhoomi Samachar

परिजनों को मिली ऐसी खबर की छा गया मातम

बताया गया कि दोपहर के वक्त छात्र कोचिंग में ही पढ़ाई कर रहा था, इसी दौरान अन्य छात्र भी साथ में मौजूद थे, युवक के सीने में तेजी से दर्द उठा, जिसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन युवक की उपचार के दौरान ही मौत हो गई, बताया गया कि युवक के पिता पीएचई विभाग में पदस्थ हैं, तथा उसका भाई प्राइवेट जॉब करता है, युवक का बचपन से ही अफसर बनने का सपना था 

कोरोना महामारी के बाद हार्ट अटैक के मामले में बढ़ोतरी देखी जा रही है, पहले जहां बीमार लोगों और बुजुर्गों को हार्ट अटैक की समस्या का सामना करना पड़ता था, वही अब देश में सैकड़ो ऐसे मामले सामने आए हैं जहां पर युवा वर्ग के लोगों को तेजी से हार्ट अटैक की समस्या सामने आ रही है, और मौत का सामना करना पड़ रहा है.

ताजा मामला मध्य प्रदेश के इंदौर जिले का बताया जा रहा है जहां पर कोचिंग पढ़ने गए एक युवक को क्लास के दौरान ही हार्ट अटैक आ गया, और बाद में छात्र की मौत हो गई, बताया गया कि घर से डिप्टी कलेक्टर बनने का सपना लेकर आया छात्र इस दुनिया में नहीं रहा.

बताया गया की छात्रा इंदौर के ही भंवर कुवा इलाके में कमरे का किराया लेकर पढ़ाई कर रहा था, वह एमपीपीएससी की तैयारी करता था, और कोचिंग भी जाता था, बताया गया कि छात्र का नाम राजा लोधी सर्वानंद नगर है, जो सागर जिले का है. छात्र सागर से बीए फाइनल ईयर की पढ़ाई भी कर रहा था। पढ़ने में बेहद लगन शीन और होशियार छात्र के अचानक गुजर जाने से पूरे जिले में शोक का माहौल है।

बताया गया कि दोपहर के वक्त छात्र कोचिंग में ही पढ़ाई कर रहा था, इसी दौरान अन्य छात्र भी साथ में मौजूद थे, युवक के सीने में तेजी से दर्द उठा, जिसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन युवक की उपचार के दौरान ही मौत हो गई, बताया गया कि युवक के पिता पीएचई विभाग में पदस्थ हैं, तथा उसका भाई प्राइवेट जॉब करता है, युवक का बचपन से ही अफसर बनने का सपना था । इसीलिए वह बड़ी लगन से पढ़ाई कर रहा था, लेकिन अचानक हुई इस दर्दनाक घटना ने पूरे परिवार में मातम फैला दिया है.



साथ में रहने वाले उसके दोस्तों ने बताया है कि युवक फिट रहने के लिए जिम जाया करता था, उसको किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं थी,, वह कम उम्र में ही अधिकारी बनना चाहता था, कार्डियोलॉजिस्ट विशेषज्ञ डॉक्टर महेंद्र चौरसिया ने बताया है की छात्रा को इलाज के लिए लाया गया था, डॉक्टरों की टीम ने पेशेंट को दो से तीन कार्डियोलॉजी शॉट दिए, इसके बावजूद मरीज सरवाइव नहीं कर पाया ।


Advertisement… 


Advertisement… 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights