18 अप्रैल को शुरू हो सकती है प्रदेश की पहली हेली एंबुलेंस सेवा | Devbhoomi Samachar

18 अप्रैल को शुरू हो सकती है प्रदेश की पहली हेली एंबुलेंस सेवा

18 अप्रैल को शुरू हो सकती है प्रदेश की पहली हेली एंबुलेंस सेवा, सूत्रों के मुताबिक, पहला पायलट प्रोजेक्ट होने चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हेली एंबुलेंस सेवा का शुभारंभ कर सकते हैं। इसको लेकर उच्चस्तर पर वार्ता चल रही है…

देहरादून। ऋषिकेश एम्स में प्रदेश की पहली हेली एंबुलेंस सेवा का पायलट प्रोजेक्ट 18 अप्रैल को शुरू हो सकता है। हेली इमरजेंसी मेडिकल सर्विस टीम ने एम्स की व्यवस्थाओं के परखने के बाद हेली एंबुलेंस के संचालन के हरी झंडी दे दी है। वहीं हेली एबुंलेंस के लिए उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश में लैंडिंग प्वाइंट को चिन्हित कर लिया गया है।

बता दें कि उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तरप्रदेश के करीब 100 किलोमीटर के क्षेत्रों में हेली एंबुलेंस सेवा का लाभ मिलना है। डॉ. मधुर उनियाल ने बताया कि विशेषज्ञ टीम ने निरीक्षण के बाद हेली एंबुलेंस सेवा के संचालन की व्यवस्थाओं पर संतुष्टि जाहिर की है। बताया कि टीम ने सेवा से जुड़ने वाले उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश के जिलों में लैंडिंग प्वाइंट्स को चिन्हित कर लिया है। बताया कि अप्रैल में सेवा का शुभारंभ प्रस्तावित है।

सूत्रों के मुताबिक, पहला पायलट प्रोजेक्ट होने चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हेली एंबुलेंस सेवा का शुभारंभ कर सकते हैं। इसको लेकर उच्चस्तर पर वार्ता चल रही है। एम्स को प्रधानमंत्री कार्यालय के जवाब का इंतजार है। हेली एंबुलेंस सेवा शुरू होने से विषम भौगोलिक क्षेत्रों में इमरजेंसी सेवाएं सुदृढ़ होंगी। मरीज को सही समय पर जीवन रक्षक उपचार मिलेगा।

माधुरी दीक्षित को कहा गया ‘वेश्या’, आपत्तिजनक टिप्पणी पर गया लीगल नोटिस


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

18 अप्रैल को शुरू हो सकती है प्रदेश की पहली हेली एंबुलेंस सेवा, सूत्रों के मुताबिक, पहला पायलट प्रोजेक्ट होने चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हेली एंबुलेंस सेवा का शुभारंभ कर सकते हैं। इसको लेकर उच्चस्तर पर वार्ता चल रही है...

नेपाल जाने वाले संवेदनशील स्थानों पर खुफिया विभाग की नजर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights