ग्रीनसेल मोबिलिटी ने देवेंद्र चावला को अपना सीईओ नियुक्त किया | Devbhoomi Samachar

ग्रीनसेल मोबिलिटी ने देवेंद्र चावला को अपना सीईओ नियुक्त किया

ग्रीनसेल मोबिलिटी ने देवेंद्र चावला को अपना सीईओ नियुक्त किया, ग्रीनसेल मोबिलिटी भारत की सबसे बड़ी ई-मोबिलिटी कंपनी है, जिसे भारत के सबसे बड़े जलवायु कोष ग्रीन ग्रोथ इक्विटी फंड (GGEF) के निवेश प्रबंधक…

देहरादून। देश भर में शेयर्ड इलेक्ट्रिक मोबिलिटी क्षेत्र की अग्रणी कंपनी, ग्रीनसेल मोबिलिटी (ग्रीनसेल) ने आज देवेंद्र चावला को नए सीईओ के तौर पर नियुक्त करने की घोषणा की है। श्री चावला शेयर्ड ई-मोबिलिटी के क्षेत्र में सतत विकास को गति देने वाले प्रमुख प्रोत्साहक बनने के कंपनी के उद्देश्य की कमान संभालेंगे। वे ग्रीनसेल के निदेशक मंडल को रिपोर्ट करेंगे।

देवेंद्र चावला के पास 26 सालों से विभिन्न क्षेत्रों में काम करने का लंबा अनुभव है, और कुछ समय पहले तक वे स्पेंसर्स रिटेल और नेचर्स बास्केट के एमडी एवं सीईओ थे। इससे पहले, उन्होंने वॉलमार्ट इंडिया में ईवीपी एवं सीओओ के पद पर अपनी सेवाएं दी थी और वे फ्यूचर कंज्यूमर लिमिटेड (FCL) के सीईओ तथा ब्रांड्स फ्यूचर ग्रुप- फूड, एफएमसीजी के ग्रुप प्रेसिडेंट थे। वे निजी ब्रांडों (फ्यूचर ग्रुप) के सीईओ – फूड एंड बिजनेस हेड के रूप में भी काम कर चुके हैं।

उससे पहले, कोका कोला कंपनी में वे एरिया ऑपरेशंस डायरेक्टर, डायरेक्टर – कस्टमर सर्विस / रूट टू मार्केट सहित विभिन्न पदों पर कार्यरत थे। उन्होंने एशियन पेंट्स में रीजनल ब्रांच मैनेजर के पद पर भी काम किया है। इस नियुक्ति के बारे में अपनी राय जाहिर करते हुए, श्री धनपाल झवेरी, वाइस चेयरमैन – एवरस्टोन ग्रुप एवं सीईओ – एवरसोर्स कैपिटल ने कहा, “हमें ग्रीनसेल टीम में देवेंद्र का स्वागत करते हुए बेहद खुशी हो रही है, जिन्होंने कई ग्राहक केंद्रित व्यवसायों का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया है और अब वे ग्रीनसेल को भारत में जमीनी परिवहन की सबसे बड़ी ग्रीन ट्रांसपोर्ट कंपनी के तौर पर विकसित करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।”

  • देवेंद्र चावला इससे पहले स्पेंसर्स रिटेल, वॉलमार्ट इंडिया, फ्यूचर ग्रुप, कोका कोला और एशियन पेंट्स में शीर्ष पदों पर काम कर चुके हैं…
  • उन्हें इस क्षेत्र में 26 से अधिक वर्षों का अनुभव है और वे गोल्ड मेडल विजेता इंजीनियर होने के साथ-साथ यूनिवर्सिटी में रैंक पाने वाले छात्रों में शामिल रहे हैं। उन्होंने एमबीए की डिग्री हासिल की है और वे हार्वर्ड बिजनेस स्कूल के एएमपी प्रोग्राम के पूर्व-छात्र हैं…

श्री देवेंद्र चावला, सीईओ, ग्रीनसेल मोबिलिटी ने कहा, “ग्रीनसेल की अगुवाई करने का अवसर पाकर मैं बेहद रोमांचित महसूस कर रहा हूँ, जो भारत में ई-मोबिलिटी के भविष्य में बड़े पैमाने पर बदलाव ला रहा है। मुझे कंपनी के विकास को अगले चरण तक ले जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है, जो इस कारोबार में अपनी जड़ें मजबूती से जमा चुका है और अब हरित परिवहन के क्षेत्र में अपने कारोबार को तेजी से आगे बढ़ाने के लिए तैयार है।”

श्री देवेंद्र चावला ने पुणे यूनिवर्सिटी से प्रोडक्शन में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है। इसके अलावा, उन्होंने सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट, पुणे से एमबीए की डिग्री हासिल की है और वे हार्वर्ड बिजनेस स्कूल के एडवांस मैनेजमेंट प्रोग्राम के पूर्व-छात्र रह चुके हैं। वे कई स्टार्ट-अप्स के मेंटर रह चुके हैं और हमेशा ग्राहकों के व्यवहार पर पैनी नजर रखते हैं। वे कई वर्षों तक सीआईआई और फिक्की की विभिन्न समितियों का हिस्सा रहे हैं। स्टार्ट-अप इकोसिस्टम के विकास में उनकी गहरी दिलचस्पी है और वे अपने खाली समय में प्रबंधन संस्थानों में छात्रों को पढ़ाते भी हैं।

ग्रीनसेल मोबिलिटी भारत की सबसे बड़ी ई-मोबिलिटी कंपनी है, जिसे भारत के सबसे बड़े जलवायु कोष ग्रीन ग्रोथ इक्विटी फंड (GGEF) के निवेश प्रबंधक, एवरसोर्स का समर्थन प्राप्त है। ग्रीनसेल ने महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान, उत्तराखंड, नई दिल्ली और मध्य प्रदेश राज्यों में ~1,500 ई-बसों को चलाने की योजना बनाई है, और फिलहाल इनमें से 700 से अधिक ई-बसें 23 शहरों में चल रही हैं।

पिता पर गंभीर आरोप : नहाने जाती हूं तो बाथरूम में घुसने कोशिश करते हैं


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

ग्रीनसेल मोबिलिटी ने देवेंद्र चावला को अपना सीईओ नियुक्त किया, ग्रीनसेल मोबिलिटी भारत की सबसे बड़ी ई-मोबिलिटी कंपनी है, जिसे भारत के सबसे बड़े जलवायु कोष ग्रीन ग्रोथ इक्विटी फंड (GGEF) के निवेश प्रबंधक...

उत्‍तराखंड में महंगा पड़ेगा स्टंट दिखाना, तीन लाख जुर्माना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights