डाॅक्टर व संत कभी किसी का बुरा नहीं करते | Devbhoomi Samachar

डाॅक्टर व संत कभी किसी का बुरा नहीं करते

डाॅक्टर व संत कभी किसी का बुरा नहीं करते, माथुर ने बताया कि कथा स्थल पर जैसे ही नंद के आनंद भयों जय कन्यालाल की भजन आरम्भ हुआ कि महिलाओं और बाल कन्याओं के नृत्य…

जोधपुर। माता – पिता, गाय, संत महात्माओं और धरती माता के पांवों में जो झुक जाता हैं वे सदैव उसका कल्याण ही करते हैं। यह उद् गार शोभावतों की ढाणी में यू आई टी पार्क में चल रही भागवत कथा के दौरान गोसेवक कथावाचक अशोक महाराज दाधिच ने व्यक्त किये।

धर्मप्रेमी सुनील कुमार माथुर ने बताया कि कथा के दौरान पंडित दाधिच ने कहा कि जो इनके चरणों में झुक जायें तो उन्हें लाभ ही लाभ हैं। उन्होंने कहा कि अगर संतों के चरणों की धूल मिल जाये तो भी कल्याण ही हैं। उन्होंने कहा कि डाॅक्टर व संत महात्मा कभी भी किसी का बुरा नहीं करते हैं अपितु वे सबका हित ही करते हैं, सभी का भला ही करते हैं।

पंडित दाधिच ने कहा कि महिलाओं को गर्भावस्था में अपने घर में ही रहना चाहिए और भजन कीर्तन व धर्म की ओर ध्यान देना चाहिए। वही अपने कमरे में भगवान के बाल स्वरुप का चित्र लगाना चाहिये ताकि सवेरे उठते ही भगवान के दर्शन हो जाये एवं घर में भगवान स्वरुप संतान आये। उन्होंने कहा कि पापियों का कभी भी कोई रिश्ता नहीं होता हैं।

माथुर ने बताया कि कथा स्थल पर जैसे ही नंद के आनंद भयों जय कन्यालाल की भजन आरम्भ हुआ कि महिलाओं और बाल कन्याओं के नृत्य ने समा बांध दिया और समूचा माहौल भक्तिमय हो गया। वहीं नन्हें नन्हें बाल गोपालों ने ईश्वर का रुप धारण कर माहौल को और भी भक्तिमय बना दिया जिसे धर्मप्रेमियों ने अपने मोबाइल में कैद किया।


परीक्षा देकर लौट रही युवती से चलती कार में गैंगरेप


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

डाॅक्टर व संत कभी किसी का बुरा नहीं करते, माथुर ने बताया कि कथा स्थल पर जैसे ही नंद के आनंद भयों जय कन्यालाल की भजन आरम्भ हुआ कि महिलाओं और बाल कन्याओं के नृत्य...

महिला टीचर से 3 डॉक्टरों ने किया गैंगरेप

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights