अपनी बहन को देना चाहिए गिफ्ट के बदले वचन

इस समाचार को सुनें...

कुमार संदीप

भाई-बहन के बीच के पावन प्रेम और विश्वास का त्योहार है रक्षाबंधन। इस दिन बड़े ही प्रेम से बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है। और एक भाई अपनी बहन की रक्षा का वचन देता है। बहन भी गिफ्ट की अपेक्षा कम रखती है और बहन यह अपेक्षा रखती है कि उसका भाई एक अमीर इंसान बनें या न बनें एक अच्छा इंसान ज़रूर बनें।

राखी से पहले कितने प्रेमभाव से लाती है ना एक बहन अपने भाई के लिए एक प्यारी सी राखी। और मिठाईयाँ, रोलीचंदन, भाई की आरती उतारने हेतु दीपक, सुंदर थाल। राखी के दिन भाई की कलाई पर राखी बांधने वक्त बहन यही प्रार्थना करती है ईश्वर से कि हे ईश्वर! मेरे भाई के हिस्से के हर ग़म को दूर कर मेरे भाई के हिस्से में ख़ुशियों के रंग को घोल दीजिएगा।

जब बहन हमारे लिए इतना कुछ करती है तो हमारा भी कर्तव्य है कि हम बहन को कुछ न कुछ विशेष इस दिन अवश्य दें, धन, संपत्ति, रुपये पैसे न सही पर कुछ वचन अवश्य दें हम इस दिन। वचन केवल देना ही हमारा कर्तव्य नहीं है बल्कि हम यदि उन वचनों को निभाएं भी तो अवश्य ही हमारी बहनें हमसे हमेशा के लिए ख़ुश रहेंगी।

धन, संपत्ति, पैसे से संबंधित उपहार से भी बेशकीमती रहेंगे ये वचन यदि राखी के दिन निभाने का वादा करते हैं आप।

  • जब बहन राखी बांधें तो दीजिए वचन कि बहन मुश्किल क्षण केवल मैं आपकी ही रक्षा नहीं करूंगा बल्कि किसी भी नारी शक्ति के ऊपर जब किसी भी प्रकार की संकट आएगी मैं रक्षा के लिए वहाँ खड़ा रहूंगा।
  • जब बहन राखी बांधे तो दीजिए वचन कि बहन आप जब न रहेंगी घर में तब भी मैं माता-पिता का पूरा ख्याल रखूंगा। कभी भी माता-पिता को बोझ समझने का ख्याल मन में ना लाऊंगा।
  • जब बहन राखी बांधे तो दीजिए वचन कि बहन आपके हिस्से में आने वाले हर ग़म से लड़ने के लिए मैं तैयार रहूंगा हर वक्त। तुम्हारी ख़ुशी के लिए मैं अपनी ख़ुशी की भी परवाह नहीं करूंगा।
  • जब बहन राखी बांधे तो दीजिए वचन कि बहन जिस तरह मेरी नज़र में आपके लिए जो इज्ज़त और मान-सम्मान है उतना ही मान-सम्मान मैं अन्य भाइयों की बहनों के प्रति भी रखूंगा।
  • जब बहन राखी बांधे तो दीजिए वचन कि बहन मैं माता-पिता के रहते या उनकी अनुपस्थिति में भी कभी भी घर में भाईयों के बीच बँटवारा नहीं करूंगा, हम भाई एक साथ रहेंगे हर मुश्किल में हर संकट में।

निश्चित ही ये सभी वचन आपकी बहन को बेशकीमती उपहार से भी अनमोल लगेगा। मैं तो कहता हूँ कि हर एक भाई को उपहार के रुप में राखी के दिन ये वचन अपनी बहन को देना चाहिए।

मँहगा स्मार्टफोन, ब्रांडेड घड़ी, कीमती वस्त्र, रुपये पैसे के अतिरिक्त यदि एक भाई अपनी बहन को वचन के रूप में सदा ही मुश्किलों से रक्षा करने का नारी शक्ति का सम्मान करने का यदि वचन दे तो निश्चित ही एक बहन के लिए यह सबसे अनमोल उपहार होगा।

भाई-बहन के बीच के प्रेम और विश्वास के प्रतीक के इस त्योहार को उमंग के साथ मनाएं और बहन के जीवन का हर पड़ाव शुभ हो इसलिए ईश्वर से बहन के लिए दुआ करें।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

कुमार संदीप

लेखक एवं कवि

Address »
ग्राम-सिमरा, पोस्ट-श्री कांत, अंचल-बंदरा, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) | Mob : +91-6299697700

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!