लघुकथा : देश का भविष्य

इस समाचार को सुनें...

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

गर्मियों की सुबह… सूरज धीमे-धीमे प्रकट हो रहा था । रमुआ अपने झोंपड़े के सामने पड़ी टूटी सी चारपाई पर खर्राटे मार रहा था । रमुआ की घरवाली मरघिल्ली पड़ोस से पानी ला चुकी थी और रमुआ का लड़का चंपू बकरियां चराने खाली खेतों की ओर निकल चुका था ।

मरघिल्ली ने देखा रमुआ जागने का नाम ही नहीं ले रहा तो चिल्लाते हुए उसे झकझोर दिया । रमुआ उठ बैठा ।

‘अरे, थोड़ा और सो लेने देती ।’ रमुआ उवासी भरता हुआ बोला ।

तरह -तरह का मुंह बनाते हुए मरघिल्ली बोली – ‘हां, सारा दिन सोते रहो, सूरज सिर पर चढ़ आया, काम पर नहीं जाना ।’

‘नहीं, काम पर नहीं जाऊंगा, रामसनेही ठेकेदार बेईमान है । उसने मेरी हाजिरी कम लगाईं हैं, मुझे काम करते 25-30 दिन हो गये उसके यहां और वो ससुरा 17 दिन बता रहा है ।’

‘हां तो उसका रजिस्टर दिखवाओ ना ।’ मरघिल्ली ने सलाह दी ।

‘अरे किसको दिखवाऊं… मैं तो अनपढ़ गंवार हूं, मैं क्या जानू हिसाब- किताब ।’

‘हिसाब -किताब की चिंता क्यों करते हो अपना श्यामू सातवीं में पढ़ता है । वो देख लेगा हिसाब- किताब ।’

‘क्या खाक देख लेगा, कल शाम मैंने पूछा था उसे, कुछ न बोला । सरकारी स्कूल में पढ़ने वाला क्या खाक गणित जाने ।’ रमुआ मरघिल्ली की तरफ मुंह लटका कर बोला ।

मरघिल्ली माथे पर हाथ रखते हुए बोली – ‘ये नाशमिटे सरकारी स्कूल के मास्टर- मास्टरनी मोटी- मोटी पगार लेके भी गरीबों के बच्चों को कुछ नहीं पढ़ाते । सरकार की आंखों में धूल नहीं पिसी हुई लाल मिर्च झोंक रहे हैं ।’

यह बात सही है कि अधिकांश सरकारी विद्यालयों में सेवारत अध्यापक- अध्यापिकाएं बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं । उच्चाधिकारी मौनी बाबा बने मोटी तनख्वाह व ऊपरी कमाई पाकर भी वातानुकूलित कार्यालयों में बैठ अपने कर्त्तव्यों की इतिश्री कर रहे हैं । कोई किसी पर कार्यवाई करना ही नहीं चाहता । सब मिलजुलकर दीमकों का कार्य पूर्ण कर रहे हैं । देश का भविष्य खतरे में है …।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

लेखक एवं कवि

Address »
ग्राम रिहावली, डाकघर तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा, (उत्तर प्रदेश) | मो : 9876777233

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!