लघुकथा : फूलन देवी

इस समाचार को सुनें...

लघुकथा : फूलन देवी, प्रणव ने कई बार कोशिश की औरत से बात करने की पर बात बनी नहीं। देखने में वह विधवा लग रही थी। उसकी माॅंग बिना सिंदूर के सुनी थी… पढ़ें आगरा (उत्तर प्रदेश) से मुकेश कुमार ऋषि वर्मा की कलम से…

ट्रेन सरपट दौड़ी जा रही थी। सामने वाली सीट पर भरे हुए बदन की एक उदास औरत बैठी थी। उसका दो साल का नटखट लड़का पूरी बोगी में धमाल मचाए हुए था। प्रणव उस औरत के गठे हुए बदन की ओर आकर्षित हुआ तो दिखावटी प्रेम से उसके लड़के से खेलने लगा। लड़का भी बड़ा क्यूट था।

प्रणव ने कई बार कोशिश की औरत से बात करने की पर बात बनी नहीं। देखने में वह विधवा लग रही थी। उसकी माॅंग बिना सिंदूर के सुनी थी, माथे पर कोई बिंदी नहीं थी। कोई सिंगार नहीं फिर भी उसकी सुंदरता गजब ढा रही थी। बोगी का हर पुरुष ललचाई नजरों से उसे काट खाने को उतारू था।

प्रणव ने आखिरी दाव चलाया, अपने बैग से बिस्किट का पैकेट निकाल कर खाने लगा। बिस्किट देख लड़का हंसता- खिलखिलाता प्रणव के पास आ गया। प्रणव भी तो यही चाहता था, उसने पैकेट औरत की तरफ आगे बढ़ाते हुए कहा- ‘लीजिए, खिला दीजिए, बच्चा भूखा होगा।’

औरत ने बगैर ना नुकुर के पैकेट हाथ में ले लिया। प्रणव को लगा कि अब बस मछली कांटे में फस गई। बातचीत प्रारंभ हो चुकी थी और बातचीत का सिलसिला चल निकला। बातों ही बातों में पता चला कि औरत दिल्ली जा रही है अपने पति से मिलने, तिहाड़ जेल !

तिहाड़ जेल का नाम सुनते ही प्रणव की आशिकी का भूत उतर गया। वह सामान्य होकर बतियाने लगा। आगे औरत ने सच्चाई बताई कि वह अपने पति के साथ मिलकर एक ढाबा चलाती थी। एक रात तीन शराबी खाना खाने आये। उनकी नियत बिगड़ गई। मैंने सब्जी काटने वाले हंसिये (गंडासा) से तीनों को काट दिया। मेरे उसी जुर्म को मेरे पति ने अपने सिर ले लिया।

अगले स्टेशन पर गाड़ी रुकी तो प्रणव फीकी सी मुस्कान के साथ फूलन देवी को नमस्ते करता हुआ उतर गया।


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

लघुकथा : फूलन देवी, प्रणव ने कई बार कोशिश की औरत से बात करने की पर बात बनी नहीं। देखने में वह विधवा लग रही थी। उसकी माॅंग बिना सिंदूर के सुनी थी... पढ़ें आगरा (उत्तर प्रदेश) से मुकेश कुमार ऋषि वर्मा की कलम से...

महिला ने नाचकर बताई अपने पति की मौत की कहानी, देखें वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar