इस नश्वर संसार में हमारा कुछ भी नहीं…

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

इस नश्वर संसार में हमारा कुछ भी नहीं है अपितु जो कुछ भी हैं वह उस परमपिता परमेश्वर का हैं । वह हमें जैसा रखेगा हम वैसे ही रह लेंगे । हमें कभी भी भ्रम में नहीं जीना चाहिए व सदैव अच्छे व सद् कर्म करें । आज समाज में नाना प्रकार की बुराईयां, आपराधिक कृत्य, व्यभिचार, भ्रष्टाचार, हिंसा, अंहकार व क्रोध का साम्राज्य व्याप्त है इसके बावजूद भी समाज में कुछ लोग ऐसे हैं जो हर रोज दान-पुण्य करते हैं , निः स्वार्थ भाव से पीडित व दुखीजन की सेवा करते हैं ।

जीव जन्तुओं की सेवा करते हैं । ईश्वर भक्ति में लगें हुए हैं जिनके पुण्य कर्मों से यह देश चल रहा हैं।

भूखे को कोई रोटी देकर , कोई प्यासे को पानी पिलाकर उनकी भूख – प्यास को तो बुझा सकते हैं लेकिन किसी के कर्म के लेखों को कोई भी नहीं मिटा सकता हैं । आज का इंसान इस नश्वर संसार की चकाचौंध और सुख सुविधाओं को देखकर उसमें डूब गया और यही वजह है कि आज इंसान भजन – कीर्तन , कथा सत्संग , पूजा-पाठ व धर्म कर्म जैसे पुण्य कर्मों से दूर हो गया है ।

दुनिया के रंग में जीना तो बङा ही आसान है मगर भगवान के रंग में जीना बहुत ही मुश्किल है । रोना , हंसना, सजना सभी भगवान के लिए ही है । हम प्रकृति की रक्षा करें, वृक्ष लगाये, वातावरण साफ रखें तो वायु शुद्ध होगी और वायु शुद्ध होगी तो परमात्मा स्वतः ही खुश हो जायेगें । भगवान की कथा सुनते सुनते अगर भगवान से प्रेम न हो तो समझ लिजिये की कथा सुनने में या फिर कथा कहने में कहीं न कहीं कोई गलती जरूर हुई है । यह भारत देश संतों की भूमि का देश है । यह ज्ञानियो की भूमि है ।



मौज फकीर बन कर जीने में मिलती है । कुछ देर के लिए अमीरी-गरीबी को भूल कर फकीरी की जिंदगी जियें ।जीवन में प्रभु के नाम का स्मरण करने के लिए समय निकालिये । परमात्मा के नाम के स्मरण में जो आनन्द मिलता है वैसा आनन्द अन्यत्र दुर्लभ है । वास्तविक सुख जीवन में प्रभु का नाम लेने में ही है । ऊर्जा का घेरा हमारे आसपास ही है । जिसने ऊर्जा के घेरे को पहचान लिया मानों उसने सकारात्मक रूप को पहचान लिया ।

कथा के पांडाल से जब हम निकलते है तो अपने साथ ही बहुत सारी रचनात्मक ऊर्जा लेकर निकलते है । मगर मोबाइल पर लगातार काफी देर तक लगें रहने से हम काफी ऊर्जा बर्बाद कर देते है । घर एक मंदिर है । कन्या दुर्गा है और स्त्री शक्ति है । अतः भूर्ण हत्या न करें एवं अपनी प्रशंसा और अंहकार से सदैव दूर रहे । भगवान की मूर्ति भले ही पत्थर की बनीं होती हैं लेकिन भगवान बैठे – बैठे ही चुपचाप बहुत कुछ कर देते है । उसे बोलने की जरूरत नहीं पडती है भगवान की आंख में जादू है जिसने एक बार उसकी आंख में झांक लिया समझो वह हमेशा – हमेशा के लिए उन्ही का हो जाता है । फिर वह व्यकित दुनिया को नहीं देखता है ।



यह शरीर नौ द्वार वाला घर है । लोभ , कोध, मोह , अंहकार जैसी तमाम बुराइयां मेहमान है जो बिना बुलाये ही आ जातें है । जब हम इनकी ओर ध्यान नहीं देते हैं तो ये निराश होकर चले जाते है । इन मेहमानों के आने पर आप भगवान में बिजी हो जाइये । भगवान में स्मरण से ही सकारात्मक सोच आती है । यह शरीर शरीर नहीं है वरन यह ईश्वर का एक स्वरूप है । अतः भले ही चुप रह जाओ मगर कभी भी अपनी जुबान से अनुचित बोल न बोले ।



अगर आप पर गुरु की कृपा है । गुरु का आशीर्वाद है तो आपका कोई भी कुछ भी नहीं बिगाड सकता । जो आंसू भगवान की याद में आये हैं वे कभी भी नहीं सूखने चाहिए । भले ही सुख-दुःख में आये आंसू सूख जाए । जिस पर गुरु की कृपा होती है उसके मुख पर सदैव ही प्रसन्नता रहती है । भाव के आंसू रहते है । काम करते रहो और प्रभु का नाम जपते चलो । भगवान की लीलाऐं साधकों को साधना करनें में काफी मदद करती है।

14 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!