मर्मस्पर्शी कविताओं ने जमकर वाह-वाह लूटी

इस समाचार को सुनें...

(देवभूमि समाचार)

बाल प्रहरी की ओर से गुरुवार 2 दिसम्बर को गूगल मीट पर आनलाईन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन आयोजित किया गया । इस कवि सम्मेलन में बीस कवि कयित्रियों ने अपनी बाल कविताएं प्रस्तुत कर वाह – वाह लूटी । जोधपुर के साहित्यकार सुनील कुमार माथुर ने भी कवि सम्मेलन में अपनी भागीदारी निभाई ।

इस अवसर पर कवि व कवियित्रीयों ने ओ माई फ्रेंड गणेशा , मां सुनाओ एक कहानी , बाल प्रहरी , सपने में एक तितली आई — , बेटी , पेड सखा तुम उडते वैसे जैसे बादल उडते — , बारह घंटे , दस तक , बेटी की अभिलाषा , हुआ सवेरा बिस्तर छोडो , स्कूल की छुट्टी , चिडियां , पौधे के छः अंग , बोल चिरैया बोल , अम्मा , मेरा बचपन , सरस्वती वंदना जैसी बालमन को छू लेने वाली ज्ञानवर्धक , लयमय , सुन्दर भावपूर्ण , मर्मस्पर्शी , हृदयतल की गहराइयों को छू लेने वाली सुन्दर व शानदार कविताओं की प्रस्तुति कर वाह – वाह लूटी ।

आमंत्रित कवि व कवियित्रीयों का स्वागत करते हुए साहित्यकार आकाश सारस्वत ने कहा कि साहित्यकार साहित्य के माध्यम से अपने मन की बात कहते हैं जबकि बाल साहित्यकार वह है जो बच्चों के मन की बात करते हैं और वही बाल साहित्य बच्चों को आकर्षित करता हैं ।

उन्होंने कहा कि बच्चों के साहित्य में वात्सल्य रस होना चाहिए व बाल साहित्यकार को बचा बनकर बाल साहित्य लिखना चाहिए । बाल साहित्य में प्रेम , स्नेह व वात्सल्य का भाव होता है । उन्होंने कहा कि बाल साहित्य वहीं है जो साहित्यकार के हृदय व भावना से निकलें ।

सारस्वत ने कहा कि अगर बाल साहित्य पढने लायक लिखा जायें तो ऐसे साहित्य को अवश्य ही पढा जायेंगा । आज समाज में ऐसे पढे जाने वाले साहित्य की नितान्त आवश्यकता है । उन्होंने कहा कि जीवन का अर्थ बच्चा बने रहनें में ही हैं । बच्चों के लिए साहित्य मन से नहीं दिल से लिखा जायें ।

आमंत्रित कवि – कवयित्रीयों में श्रीमती संगीता गुप्ता , डां चेतना उपाध्याय , सुनील कुमार माथुर , डाॅ दलजीत कौर , राकेश चक , चन्द्र प्रकाश पटसारिया , बलदाऊराम साहू , नरेन्द्र श्रीवास्तव , श्रीमती लता भट्ट , सुश्री जानकी सिंह , श्रीमती गंगा आर्या , श्रीमती मधु माहेश्वरी , अजीत सिंह राठौर , श्याम पलट पांडेय , राजेन्द्र श्रीवास्तव , मोती प्रसाद साहू , हरीश सेठी , श्रीमती कविता जोशी व प्रकाश चंद्र पांडे ने बाल कविताएं प्रस्तुत कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया और जमकर वाह – वाह लूटी ‌।

बाल प्रहरी के इस २७९ वे आनलाईन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजकुमार जैन राजन थे । कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ आर पी सारस्वत ने की व कवि सम्मेलन का संचालन डाॅ जगदीश पंत कुमुद ने किया । अंत में बाल प्रहरी के संपादक व बाल साहित्य संस्था के सचिव उदय किरौला , साहित्यकार श्याम पलट पांडेय व कु ० निहारिका ने सभी कवियों के प्रति आभार व्यक्त किया ।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!