जीवन की सच्ची सम्पति

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

हंसता हुआ चेहरा और हंसता हुआ मन यह जीवन की सच्ची संपत्ति है । अतः मनुष्य को हर समय हंसते मुस्कुराते रहना चाहिए इसी से उसका स्वास्थ्य ठीक रहता है हंसने में कोई शुल्क नहीं लगता है । अतः मनुष्य को हर वक्त हंसता हुआ चेहरा लोगों के सामने रखना चाहिए । जीवन एक अमूल्य निधि है व स्वस्थ जीवन है । यह हमारा अमूल्य धन है जिसे बनाए रखना हम सबका एक कर्तव्य है इससे नकारा नहीं जा सकता है । यह एक कटु सत्य है ।

यह बात सभी लोग जानते हैं उसके बावजूद भी वे अपने अहंकार में इधर-उधर भटकते रहते हैं । आपके चेहरे पर जो मुस्कुराहट है वह प्रभु के हस्ताक्षर हैं इन्हें आंसुओं से मत धोइए । मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है इंसान कपड़ों से नहीं बनता है बल्कि दिल से बनता है इसलिए मनुष्य को सदैव एक दूसरे की मदद करनी चाहिए । मदद एक ऐसा इत्र है जो आप दूसरों पर जितना छिटकेगें आप उतना ही अधिक महकेगें ।

जीवन में जब भी वक्त मिले तब आप कुछ ना कुछ लिखते रहिए और अपने हुनर को निखारते रहिए । चौबीस घंटों में से कुछ वक्त अपने को दीजिए । कहते हैं कि एक मां की पीड़ा बच्चे तक पहुंच सकती है वह बच्चे का दुख व पीड़ा नहीं देख सकती है । भक्ति में ही शक्ति है । अतः ईश्वर की पूजा आराधना करें । जरूरतमंद लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा करें । इंसान को सदैव नेक और दरिया दिल होना चाहिए । व्यक्ति को अपने कर्मों का फल भुगतना ही पड़ता है अतः सदैव नेक कर्म करें । अच्छे कर्म करें । जो लालच में खोया है वह संयम से ही आएगा । आदमी जब जीवन में ठोकर खाता है तो वह उस ठोकर को जीवन भर याद रखता है ।

जीवन में हमेशा सत्य के रास्ते पर चले । बुरे लोगो का कभी भी साथ न करें व अच्छे लोगों का कभी भी साथ न छोड़े । प्रेम श्रध्दा , विश्वास, स्पष्टवादिता , सत्य , ईमानदारी यहीं तो हमारी सबसे बड़ी पूंजी है । जिसने इसे खो दिया मानों उसनेे सब कुछ खो दिया । अपना लक्ष्य तय कर आगे बढ़े अन्यथा बीच चौराहे पर भटक जायेगे । लक्ष्य पहले से ही निर्धारित होना चाहिए तभी तो वहां तक पहुंच पाएंगे ।

जब भी कोई बात कहें तब ठोस बात कहे । सत्य बात कहे तथा सकारात्मक बात कहें । बिना लाग लपेट के कहें । किसी के दबाव में आकर या किसी को खुश करने के ध्येय से बात ना कहें । आपकी कथनी और करनी में अंतर नहीं होना चाहिए । जो भी करे उसमें ईमानदारी और सच्चाई होनी चाहिए । झूठ , छल , कपट नहीं । अंहकार से विनाश पनपता है । सादगी के साथ व समझदारी के साथ जीवन व्यतीत करें । लोक दिखावे के चक्कर में न पड़े अन्यथा कहीं के भी नही रहेगे ।

14 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar