कविता : रात की बात…!

इस समाचार को सुनें...

कविता : रात की बात…! रौशनी रहते न देख पाएगा, कदम डगमगाएगा और तू, लड़खड़ा कर गिर जाएगा, जबकि रात काली… पास बुलाएगी, देकर थपकी सुलाएगी, तुम्हें अपनों के पास लाएगी, प्रेम बढ़ाएगी, सपने दिखाएगी, नवाब मंजूर की कलम से…

रात
गहरी काली भी
होती है
मतवाली।
न भाग तू उजाले की ओर…
चकाचौंध में फंस जाएगा

रौशनी रहते न देख पाएगा
कदम डगमगाएगा और तू
लड़खड़ा कर गिर जाएगा!

जबकि रात काली…
पास बुलाएगी
देकर थपकी सुलाएगी
तुम्हें अपनों के पास लाएगी

प्रेम बढ़ाएगी, सपने दिखाएगी
जीना जीवन सिखाएगी
और तो और
वही भोर नया भी लाएगी!

मेरे विचार : मैं कौन हूं, लक्ष्यविहीन जीवन…!


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

कविता : रात की बात...! रौशनी रहते न देख पाएगा, कदम डगमगाएगा और तू, लड़खड़ा कर गिर जाएगा, जबकि रात काली... पास बुलाएगी, देकर थपकी सुलाएगी, तुम्हें अपनों के पास लाएगी, प्रेम बढ़ाएगी, सपने दिखाएगी, नवाब मंजूर की कलम से...

देश-विदेश और प्रदेशों के प्रमुख पयर्टक और धार्मिक स्थलों से संबंधित समाचार और आलेखों के प्रकाशन से पाठकों के समक्ष जानकारी का आदान-प्रदान किया जाता है। पाठकों के मनोरंजन के लिए बॉलीवुड के चटपटे मसाले और साहित्यकारों की ज्ञान चासनी में साहित्य की जलेबी भी देवभूमि समाचार समाचार पोर्टल में प्रकाशन के फलस्वरूप परोसी जाती है।

देवभूमि समाचार की टीम के द्वारा देश-प्रदेश की सूचना और जानकारियों का भी प्रसारण किया जाता है, जिससे कि नई-नई जानकारियां और सूचनाओं से पाठकों को लाभ मिले। देवभूमि समाचार समाचार पोर्टल में हर प्रकार के फीचरों का प्रकाशन किया जाता है। जिसमें महिला, पुरूष, टैक्नोलॉजी, व्यवसाय, जॉब अलर्ट और धर्म-कर्म और त्यौहारों से संबंधित आलेख भी प्रकाशित किये जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar