कविता : पागल है तू चांद

इस समाचार को सुनें...

राजेश ध्यानी “सागर”

पागल है तू चांद
फस जाता हें ,
बादलों में ।
रोंशनी न छोंडें तुझें
आभास दिलाती हें
तू हें कहां।

पीणां में हें न यार ,
मैं भी तो तुझें देखने
पीड़ा में हूं यार।
बादल को छटना हें
फिर तेरा दीदार करुगां
जब तक न दिखें
इन्तजार करुंगा।

बादलों के इम्तिहान से
जब तू बाहर आयेंगीं
तेरी रोशनी पीकर
तेरा गुणगान करुगां
बांध लूंगा तुझें आंचल से,
अरे बादल तो क्या
आंसमां को हिला दूंगा।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

राजेश ध्यानी “सागर”

वरिष्ठ पत्रकार, कवि एवं लेखक

Address »
144, लूनिया मोहल्ला, देहरादून (उत्तराखण्ड) | सचलभाष एवं व्हाट्सअप : 9837734449

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!