धैर्य

इस समाचार को सुनें...

कविता नन्दिनी

उलझनों के जंगल में
धैर्य डगमगाता है
ज़िंदगी की राहों में
उलझनों से नाता है।।

हम सब तो मुसाफिर हैं
साथ-साथ चलना है
ग़म हो या ख़ुशी लोगों
इसी में तो पलना है।।

उलझनें हैं कुछ सब की
कुछ महज हमारी हैं
धैर्य साथ दे-दे तो
ज़िंदगी ये प्यारी हैं।।

👉 देवभूमि समाचार के साथ सोशल मीडिया से जुड़े…

WhatsApp Group ::::
https://chat.whatsapp.com/La4ouNI66Gr0xicK6lsWWO

FacebookPage ::::
https://www.facebook.com/devbhoomisamacharofficialpage/

Linkedin ::::
https://www.linkedin.com/in/devbhoomisamachar/

Twitter ::::
https://twitter.com/devsamachar

YouTube ::::
https://www.youtube.com/channel/UCBtXbMgqdFOSQHizncrB87A

क्या करे कोई यारों
बेख़ुदी का आलम है
भीगी-भीगी पलकों में
ख़्वाब झिलमिलाता है।।

सहमी-सहमी सांसें हैं
इन ग़मों के झोंकों में
धैर्य जैसे जुगनू-सा
दूर टिमटिमाता है।।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

कविता नन्दिनी

कवयित्री

Address »
सिविल लाइन, आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!