कुछ पाना है तो कठोर परिश्रम करना होगा

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

कवि एवं लेखक, देवभूमि समाचार
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड (जोधपुर)

जीवन में संघर्षं आना कोई नई बात नहीं हैं अपितु संघर्ष ही जीवन हैं । अगर संघर्षमय जीवन नहीं जीया तो क्या जीवन जीया । जीवन जीना भी तो एक कला हैं और जिसने इस कला को सीख लिया समझो उसने सही मायने में जीवन जीना सीख लिया है ।

अगर आप किसी कार्य की शुरुआत कर सफलता पूर्वक मंजिल चाहते है तो उसे एक जूनुन की तरह ले एवं सफलता को पाने के लिए आपको अपने आपको झोकना होगा तभी सफलता आपके चरण चूमेगी । आपको अपना हुनर साबित करना होगा । सफलता को पाने के लिए अंहकार को त्यागना होगा और शांति , धैर्य , नम्रता और विनम्रता को अपनाना होगा ।‌ इनके बिना सफलता प्राप्त करना मुश्किल हैं ।

जीवन में कुछ भी असम्भव नहीं हैं बस सतत् अभ्यास करते रहिए । सफलता अवश्य ही मिलेगी । कुछ पाने के लिए कुछ खोना भी पडता हैं । हम आज जिस मुकाम पर हैं वहां रातो रात नहीं पहुंचे हैं अपितु हमारे अभिभावकों के त्याग का ही परिणाम है । उन्होंने हमें आगे बढाने के लिए न जाने अपनी कितनी इच्छाओं का त्याग किया जिसके कारण हम आज इस मुकाम पर हैं ।

हर सफलता के पीछे किसी न किसी का त्याग अवश्य ही छिपा होता है । जीवन में कदम – कदम पर प्रतिस्पर्धा है अत: असफलता से घबराए नहीं अपितु और उत्साह से अपने काम में लग जाये फिर देखिए कि सफलता कैसे नहीं मिलती हैं । हर दिन एक सा नहीं होता हैं।

12 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!