जीवन के सुनहरे पल

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

जीवन में स्वार्थी नहीं सहयोगी बनें । दूसरों का सहयोग करना सीखें । सहयोग करने से ही आपसी मेलजोड प्रगाढ होते हैं और आपसी प्रेम – स्नेह और भी प्रगाढ होते हैं । सेवा करने वालों की ही समाज में वाह – वाह होती है । न कि स्वार्थी लोगों की । स्वार्थी लोग तो केवल झूठी वाह वाही लूटने के लिए इधर – उधर मुंह मारते फिरते है और कई बार वे अपने ध्येय में सफल भी हो जाते हैं ।

इस नश्वर संसार में जन्म – मृत्यु का चक्र तो चलता ही रहता हैं और मृत्यु एक दिन आना निश्चित ही हैं फिर डर काहे का । जीवन के जितने भी दिन है एक – द् दूसरे के साथ प्रेम पूर्वक रहकर निभायें और जीवन को खुशहाल बनायें । रो – रो कर जीवन जीने के बजाय हंसते हुए जीवन बितायें । इसी में महानता है ।

जीवन के इन सुनहरे़ पलों के एक – एक क्षण का आनंद लीजिए और जीवन को स्वर्गमय बनाये । खुद भी खुशी – खुशी जीवन जीये़ और दूसरों को भी खुशी खुशी जीवन जीने दीजिए । शांतिमय जीवन जीना भी एक कला है और जिसने इस कला को सीख लिया उसका जीवन धन्य हो गया।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

स्वतंत्र लेखक व पत्रकार

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!