विध्न विनाशक बुद्धि एवं ज्ञान के देवता भगवान गणेश

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

विध्न विनाशक बुद्धि एवं ज्ञान के देवता भगवान गणेश का जन्मोत्सव प्रति वर्ष गणेश महोत्सव ( गणेश चतुर्थी ) के साथ देश भर में हर्षोल्लास, उत्साह व उमंग के साथ मनाया जाता है । गणेश चतुर्थी पर घरों , मंदिरों और शहर के विभिन्न क्षेत्रों में सजे अस्थाई मंडपों में गणेश प्रतिमाओं की स्थापना के साथ ही अनन्त चतुर्थी तक चलने वालें 11 दिवसीय गणेश महोत्सव की शुरुआत हो जाती है।

देश भर के गणेश मंदिरों में दिन भर गणपति बप्पा के जैकारों की गूंज सुनाई देती है । मंदिरों व घरों में गणेश जी के प्रिय मोदक के लड्डुओं व चूरमें का भोग लगाया जाता है । गणेश चतुर्थी पर गणपति के भक्त दिन भर उपवास रखकर सभी विध्न बाधाओं को दूर करने की कामना करतें है एवं गणेश मंदिरों पर आकर्षक रोशनी करके उन्हें दुल्हन की तरह सजाया जाता है । इस अवसर पर गणपति बप्पा की कृपा सभी पर बरसे ऐसी भक्तगण गणेश जी से कामना करते हैं।

अंग्रेजों के खिलाफ लोगों को एकजुट करने के लिए बाल गंगाधर तिलक ने महाराष्ट्र में गणेश महौत्सव की शुरुआत की । गणेश पूजन के बिना कोई भी मांगलिक कार्य आरम्भ नहीं होता है । भारत वर्ष तो वैसे ही पर्वों और त्यौहारों का देश है । चूंकि यहां सभी धर्मों के लोग निवास करतें है और उन्हें अपने-अपने धर्म के अनुसार पूजा अर्चना करने की पूरी- पूरी छूट है । यही वजह है कि हर जाति , धर्म व सम्प्रदाय के लोग पूरी श्रध्दा, आस्था, निष्ठा, विश्वास, उत्साह व उमंग के साथ अपने-अपने तीज त्यौहार मनाते है।

महाराष्ट्र के लालबाग के राजा के मंदिर में गणेश महौत्सव की अनूठी धूम मचती है । बप्पा के दर्शन के लिए सवेरे से ही भक्तों की भीड लग जाती है । श्रद्धालु बप्पा से देश की सुख , शांति व समृध्दि की कामना करतें है एवं लोगों का जीवन मंगलमय हो इसकी कामना बप्पा से करतें है । देश विदेश से बप्पा के भक्त आते हैं और अपनी मन्नतें मांगते हैं और जिनकी मन्नतें पूरी हो जातीं है वे बप्पा को लाखों- करोडों का चढावा चढाते है । मन्नतें पूरी होने पर बप्पा को नोटों की मालाएं पहनाकर भक्तगण धन्यवाद देते है।

गणेश महोत्सव के लिए देश भर में कलाकार गणेश जी की मूर्तियां गणेश चतुर्थी आरम्भ होने से 2 से 3 माह पूर्व से ही बनाना आरम्भ कर देते है । पर्यावरण की सुरक्षा के मद्देनजर अब मिट्टी की गणेश प्रतिमाओं की स्थापना की जाती है व महोत्सव के दौरान देश भर में सभी को गणेश जी सद् बुद्धि दे इसकी कामना की जाती है । इसके साथ ही साथ देश भर में अमनचैन, भाईचारे एवं खुशहाली की कामना की जाती है । अनन्त चतुर्थी के दिन गणेश जी की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है व इसी के साथ 11 दिवसीय गणेश महोत्सव का समापन हो जाता है।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

स्वतंत्र लेखक व पत्रकार

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!