पुस्तक समीक्षा : गोकुलम् ‘भजनों का संकलन’

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

भजनों की यह पुस्तक मुकेश चन्द्र माथुर ने पाठकों को समर्पित की है । मुकेश के पिता स्व० जगदीश चन्द्र माथुर एवं ससुर स्व० आसुलाल भिवाणी स्वंय देवी जगदम्बा के उपासक थे व आपकी धर्मपत्नी स्व० श्रीमती मधु माथुर हरिभजन में हमेंशा मग्न रहा करती थी। पुस्तक का मुखपृष्ठ अति सुन्दर है जिस पर भगवान कृष्ण का आकर्षक चित्र अंकित है व अंतिम कवर पृष्ठ पर श्रीमती विमला माथुर (धर्मपत्नी स्व० जगदीश चन्द्र माथुर) परिवार दिया गया है।

इस पुस्तक के माध्यम से दिवंगत आत्माओं को श्रध्दांजली दी गयी है । पुस्तक में गणेश स्तुतियां , गुरु वंदना , शिव पार्वती महिमा , श्रीराम हनुमान जी भजन , जगदम्बा जी के भजन , कृष्ण कीर्तनम् , विविध भजन , भेरु स्तुतियां , आरती संग्रह , नारायण महिमा , शिव उपासना , गणेश लक्ष्मी सरस्वती का चित्र , प्रतिभा नंद जी महराज , अजनेश्वर जी महाराज , शांतेश्वर जी महाराज के चित्र व परिवार के दिवंगत सदस्यों को श्रध्दा सुमन अर्पित किये गये है।

भजनों का यह संकलन धर्म प्रेमियों के लिए काफी सहायक सिध्द होगा । पुस्तक की सामग्री काफी अच्छी है । इसकी छपाई , गेट अप मेक अप भी काफी सुन्दर है और कागज की क्वालिटी भी अच्छी है । कुल मिलाकर गागर में सागर भरने का जो प्रयास किया गया है वह वंदनीय एवं सराहनीय है।

पुस्तक का नाम : गोकुलम् (भजनों का संकलन)
मुकेश चन्द्र माथुर , 19 ई / 86 चौपासनी हाउसिंग बोर्ड जोधपुर (राजस्थान)
प्रकाशक : मंयक माथुर – कृतिका माथुर
मुद्रक : राज कम्प्यूटर्स
पृष्ठ : 162 (कवर पृष्ठ अतिरिक्त)
समीक्षक : साहित्यकार सुनील कुमार माथुर


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!