भेड़िए कविता सुना रहे हैं…

इस समाचार को सुनें...

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

भेड़िए कविता सुना रहे हैं,
गिद्ध के सिर पर सजे ताज पर
और गिद्ध नोच- खा रहा है
गरीब, भूखे, बीमार, कमजोर लाचारों को….

कोई मजदूर- बेरोजगार उठाए आवाज तो,
वो सहज ही सम्मान उपाधि पा जाता है –
असामाजिक तत्व, देशद्रोही, अर्बन नक्सली, वामपंथी, आतंकी, नक्सली, खालिस्तानी न जाने कौन- कौन सी…?

देश में सफेद झूठ की वाहवाही के लिए
भेड़िए कविता सुना रहे हैं,
गीदड़ पत्रकारिता कर रहे हैं ।

गिद्ध मस्त है,
गिद्ध व्यस्त है,
नोच खा रहा है
और अपनी बिरादरी को भी
भरपेट खिला रहा है…
बाकी बचा खुचा
स्विस बैंक में जमा करा रहा है ।

और भेड़िए उसके गुणगान में,
कविता सुना रहे हैं।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

लेखक एवं कवि

Address »
संचालक, ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय | ग्राम रिहावली, डाकघर तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा, (उत्तर प्रदेश) | मो : 9627912535

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!