जनाब यही तो जिंदगी है…

इस समाचार को सुनें...

संजना
11वीं कक्षा की छात्रा, कांगड़ा /हिमाचल प्रदेश

कभी हँसाती है तो
कभी रुलाती है।
यह जिंदगी
समझ नहीं आती है?
कभी खुशियां है तो
कभी गम है ।

यह जिंदगी भी
किसी खेल से
कहां कम है।
कभी दोस्त हैं तो
कभी दुश्मन है ।

तो जिंदगी में
कही ग़म है तो
कही हम है।
कभी दिल की धड़कन है तो ,
कभी दिमाग की सोच है,
जनाब यही तो जिंदगी है।

👉 देवभूमि समाचार के साथ सोशल मीडिया से जुड़े…

WhatsApp Group ::::
https://chat.whatsapp.com/La4ouNI66Gr0xicK6lsWWO

FacebookPage ::::
https://www.facebook.com/devbhoomisamacharofficialpage/

Linkedin ::::
https://www.linkedin.com/in/devbhoomisamachar/

Twitter ::::
https://twitter.com/devsamachar

YouTube ::::
https://www.youtube.com/channel/UCBtXbMgqdFOSQHizncrB87A

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!