बाल साहित्य ‘साइकिल’

इस समाचार को सुनें...

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

दो पहियों की गाड़ी प्यारी,
अद्भुत साइकिल की सवारी ।

होती सुविधा सब जन को,
तनिक न प्रदूषण फैलाती ।
जो नियमित इसे चलाते,
उत्तम स्वास्थ्य उनका बनाती ।।

दो पहियों की गाड़ी प्यारी,
साइकिल सफर में कभी न हारी ।

चाहे जाओ खेत, चाहे बाजार,
स्वयं बैठो और सामान भी लाओ ।
कसरत मुफ्त में हो जाती है,
पकड़ हैंडिल, पैड़ल खूब घुमाओ ।।

दो पहियों की गाड़ी प्यारी,
धो-पौंछकर रखते चाचा गिरधारी ।

भारी-भरकम वजन उठाती,
सहज ही हर घर में मिल जाती ।
सबसे सस्ती – सबसे अच्छी,
कच्ची-पक्की डगर पे चलती जाती ।।

दो पहियों की गाड़ी प्यारी,
अद्भुत साइकिल की सवारी।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

लेखक एवं कवि

Address »
ग्राम रिहावली, डाकघर तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा, (उत्तर प्रदेश) | मो : 9876777233

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar