ऋषिकेश : पांच वर्षीय प्रतीक ने बताये आवर्त सारिणी के तत्व

इस समाचार को सुनें...

ऋषिकेश के पांच वर्षीय प्रतीक ने बताये आवर्त सारिणी के तत्व, इसी स्कूल में कक्षा चार में पढ़ने वाली प्रतीक की बहन अंतरा कुमारी ने क्लास टीचर को बताया कि प्रतीक को रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल) के सभी 118 एलीमेंट (रसायनिक तत्व) भी याद हैं, तो यह सुनकर सभी चौंक गए। 

ऋषिकेश। ‘होनहार बिरवान के होत चिकने पात’ यह कहावत तीर्थनगरी ऋषिकेश के पांच वर्षीय प्रतीक कुमार महतो पर सटीक बैठती है। अक्सर जिस उम्र में बच्चे सौ तक की गिनती भी ढंग से नहीं बोल पाते, उस उम्र में प्रतीक कुमार रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी के 118 तत्वों को बिल्कुल सही क्रम में किसी बाल गीत की तरह सुना देता है। प्रतीक किसी भी विषय को एक बार पढ़कर ही समझ लेता है। वह आगे की कक्षाओं के सवालों को भी चुटकियों में हल कर देता है।

प्रतीक कुमार महतो ऋषिकेश पब्लिक स्कूल में कक्षा एक का छात्र है। मूल रूप से ओडिसा निवासी प्रतीक कुमार के पिता रोशन लाल महतो वर्तमान में ऋषिकेश के ढालवाला में निवासरत हैं। वह ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना में काम कर रही सैंडविक कंपनी में मैकेनिकल इंजीनियर हैं। प्रतीक कुमार की असाधारण प्रतिभा का पता क्लास टीचर नमिता राय को तब चला जब कक्षा में सभी प्रश्नों को हल सबसे पहले करने लगा। दो घंटे का पेपर अथवा मासिक टेक्स्ट वह महज आधा और एक घंटे में ही पूरा कर देता।

इसी स्कूल में कक्षा चार में पढ़ने वाली प्रतीक की बहन अंतरा कुमारी ने क्लास टीचर को बताया कि प्रतीक को रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल) के सभी 118 एलीमेंट (रसायनिक तत्व) भी याद हैं, तो यह सुनकर सभी चौंक गए। प्रधानाचार्य एसएस भंडारी ने जब इंटरमीडिएट के बच्चों की कक्षा में ले जाकर प्रतीक कुमार महतो से आवर्त सारणी सुनाने का कहा तो प्रतीक ने महज एक मिनट और कुछ सकेंड का समय लेकर आवर्त सारणी के सभी 118 रसायनिक तत्वों के नाम सुना डाले। जिससे सभी हैरान रह गए।

प्रतीक को हिंदी, अंग्रेजी की गिनती, पंद्रह तक के पहाड़े भी बखूबी याद हैं। वह गणित के सवालों को चुटकियों में हल कर देता है। प्रतीक के पिता रोशन लाल महतो ने बताया कि वह अपनी बेटी अंतरा को विज्ञान व गणित विषय पढ़ाते हैं। इसी दौरान प्रतीक भी उन्हें सुन लेता है। रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी के 36 एलीमेंट प्रतीक ने बिना पढ़ाए ही याद कर लिए थे। इसके बाद उन्होंने प्रतीक को आवर्त सारणी पढ़ाई तो वह कुछ ही दिनों में पूरी आवर्त सारणी को याद कर गया। उन्होंने बताया कि प्रतीक खुद भी ढाई घंटे नियमित पढ़ाई करता है।

उसकी सभी विषयों में रूचि है। बहरहाल प्रतीक कुमार महतो की इस असाधारण प्रतिभा को देखकर सभी हैरान हैं। सभी इसे ईश्वरीय देन मान रहे हैं। प्रतीक कुमार महतो की इस असाधारण प्रतिभा को देखकर प्रधानाचार्य एसएस भंडारी भी हैरान हैं। उन्होंने बताया कि महज पांच वर्ष की उम्र में एक मिनट और कुछ सेकेंड में आवर्त सारणी के सभी 118 एलीमेंट के नाम बोलना कोई साधारण काम नहीं है। कहा कि इस तरह के कुछ विश्व रिकार्ड भी दर्ज हैं। सबसे कम समय में आवर्त सारणी को सही क्रम में लगाने वाली विश्व की पहली महिला मोदीनगर की प्रो. मीनाक्षी अग्रवाल हैं।

उन्होंने 27 सितंबर 2019 को 118 रसायनिक तत्वों को महज 2.49 मिनट में पूरा कर लिया। इससे पहले यह रिकार्ड पाकिस्तानी हाफिज खुर्रम शहजाद का 3.15 मिनट का हांगकांग में था। इसी तरह रायपुर की पांच वर्षीय अनन्या राठी का नाम गोल्डन बुक आफ वर्ड रिकार्ड में दर्ज है। उसने आठ मिनट एक सेकेंड में 118 एलीमेंट में उनके वैज्ञानिकों के नाम बोले हैं।



वहीं चार वर्षीय तमिलनाडु की नेपुना के. के नाम चार मिनट में 118 तत्वों के नाम उनके एटोमिक नंबर के साथ सुनाने का रिकार्ड दर्ज है। वहीं फरुखाबाद उत्तरप्रदेश निवासी तीन वर्षीय सिया अग्रवाल के नाम एक मिनट 27 सेकेंड में पीरियोडिक टेबल के एलीमेंट का नाम सुनाने का रिकार्ड दर्ज है। उन्होंने बताया कि विश्व रिकार्ड दर्ज करने वाली संस्थाओं को प्रतीक की इस प्रतिभा से अवगत कराया जाएगा।

स्कूल में शराब पीकर लड़खड़ाए अध्यापक महोदय, देखें वीडियो


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

ऋषिकेश के पांच वर्षीय प्रतीक ने बताये आवर्त सारिणी के तत्व, इसी स्कूल में कक्षा चार में पढ़ने वाली प्रतीक की बहन अंतरा कुमारी ने क्लास टीचर को बताया कि प्रतीक को रसायन विज्ञान की आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल) के सभी 118 एलीमेंट (रसायनिक तत्व) भी याद हैं, तो यह सुनकर सभी चौंक गए।

प्यार में रुबिका की दर्दनाक मौत, आशिक ने किये 50 टुकड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar