बापू के नाम खुला खत

आपने लाठी किसी को मारे बिना अंग्रेजों को खदेड दिया तो मंहगाई किस खेत की मूली है...

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

आदरणीय बापू !

सादर चरणस्पर्श । बापू बचपन में पढा था कि भारत सोने की चिडियां हैं और एक गाना भी बजता था कि डाल – डाल पर सोने की चिडियां करती हैं बसेरा वह भारत देश हैं मेरा इतना ही नहीं यह भी सुना करते थे कि यहां दूध , दही व घी की नदियां बहा करती थी और भारत के लोग साधन – संपन्न थे । भारत का हर नागरिक ईमानदार व चरित्रवान था । लोग किसी को कोई वस्तु उधार भी देते थे तो वापस मांगते नहीं थे ।

लेकिन हे बापू ! वह सोना कहां गया । वह सोने की चिडियां कहां चली गयी । वह घी , दूध व दही की नदियां कहां चली गई । वह साधन सम्पन्नताकहां चली गई । वह ईमानदारी व चरित्र कहां चला गया ।

हे बापू ! मैं तो देख रहा हूं कि देश मे चारों ओर लूट – खसोट मची हुई हैं । आज भाई – भाई के खून का प्यासा बना हुआ हैं हे बापू ! यह मिलावटी घी , दूध व दही आज की युवापीढ़ी को संस्कारहीन व चरित्रहीन बना रहें है । अगर आज के दूध के माखन को देखे तो भगवान कृष्ण भी उसे खाने से इंकार कर देवे ।

हे बापू ! मंहगाई इतनी बढ गई हैं कि गरीब व मध्यम वर्गीय परिवारों का जीना मुश्किल हो गया है । आज अमीर और अमीर होता जा रहा हैं और गरीब और गरीब चूंकि सरकार की तमाम योजनाएं पूंजीपतियों को येन केन प्रकारेण लाभ पहुंचाने के लिए बनाई जा रही हैं । हे बापू ! आज का इंसान इतना गिर गया हैं कि वह अपने लाभ के लिए दूसरों के जीवन से खिलवाड कर रहा हैं और सरकारें मौन बैठी हैं।

हे बापू ! आप से हाथ जोडकर विनती हैं कि आप इस धरा पर एक बार फिर से आइये और वस्तु स्थिति को देखिये । आपकों खुद पता चल जायेगा कि यहां क्या हो रहा हैं । हे बापू ! आप एक बार आइये और नये भारत का नव निर्माण कीजिए । जनता-जनार्दन को इस मंहगाई की मार से राहत दिलाएं । आपके आगमन की तमाम देशवासी बडे ही उत्साह व उमंग के साथ इन्तजार कर रहें है ।

आपने अपनी लाठी किसी को मारे बिना अंग्रेजों को भारत से खदेड दिया तो यह मंहगाई किस खेत की मूली हैं । इस लाठी की फटकार बिचौलियों पर व जमाखोरों पर बरसाए ताकि जनता-जनार्दन को मंहगाई की मार से राहत मिल सके।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!