नामांकित छात्रों ने लिखा सफलता का इतिहास

सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के योग विज्ञान विभाग एवम स्वामी विवेकानन्द शोध अध्ययन केंद्र बना युवाओं की प्रेरणा का केंद्र

इस समाचार को सुनें...

युवा छात्र-छात्राओं ने की नेट-जेआरएफ परीक्षा उत्तीर्ण

(देवभूमि समाचार)

स्वामी विवेकानंद शोध एवं अध्ययन केंद्र के अन्तर्गत संचालित नि:शुल्क नेट जेआरएफ कोचिंग क्लासेस जिसका शुभारंभ राष्ट्रीय युवा दिवस 12 जनवरी 2021 को योग विज्ञान विभाग , सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में माननीय कुलपति प्रोफेसर एन एस भण्डारी, माननीय उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत उत्तराखंड सरकार एवं योग विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ नवीन चन्द्र भट्ट द्वारा किया गया था।

जिसका मुख्य उद्देश्य देश भर के सभी विद्यार्थियों को जो आर्थिक समस्याओं के कारण महंगे कोचिंग ज्वाइन नहीं कर पाते उनके लिए नि:शुल्क नेट जेआरएफ तैयारी हेतु समुचित मार्गदर्शन, अध्ययन सामग्री , नियमित क्विज टेस्ट आदि सुविधा प्रदान कर आगामी परीक्षाओं में सफल बनाना है।

बहुत ही हर्ष का विषय है कि एन टी ए यूजीसी नेट द्वारा आज घोषित नेट जेआरएफ परीक्षा के परिणाम में स्वामी विवेकानन्द शोध एवम अध्ययन केंद्र के अंतर्गत संचालित नेट -जे आर एफ निशुल्क ऑनलाइन प्रशिक्षण केंद्र ,योग विज्ञान विभाग ,सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय ,अल्मोड़ा में नामांकित प्रिय छात्र सीताराम , राहुल यादव एवं पूजा बोरा नेट एवं जेआरएफ उत्तीर्ण किया है।

वहीं प्रिय छात्र चंदन बिष्ट ,रजत शर्मा ,सूरज रावत ,दिया रावत ,किरन सनवाल ,सलोनी रमण ,दीपा रावत, हिमांशु पुनेठा, तनुजा जोशी ने योग में नेट (सहायक प्राध्यापक) उत्तीर्ण किया है। इस अवसर पर विवेकानन्द शोध अध्ययन केंद्र के निदेशक एवं योग विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ नवीन चन्द्र भट्ट ने सभी विद्यार्थियों को सफल होने पर ढ़ेर सारी बधाइयाँ व अग्रिम भविष्य की शुभकामनाएं प्रदान किए।

साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र के उद्घाटन के अवसर पर घोषणा की गई थी कि नेट-जेआरएफ क्वालीफाई करने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया जाएगा।उक्त व अन्य छात्रों को अल्मोड़ा में आगामी 12,13 अप्रैल को होने वाले आंतरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में सम्मानित किया जाएगा।

माननीय कुलपति एन एस भण्डारी , सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा ने भी सभी उत्तीर्ण विद्यार्थियों को बधाई एवं उज्ज्वल भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएं प्रदान कि साथ ही केंद्र द्वारा संचालित जनहितकारी प्रयासों हेतु केंद्र के निदेशक एवं सदस्यों को साधुवाद प्रदान किए ।

नेट जेआरएफ सैल के समन्वयक श्री विश्वजीत वर्मा ने बताया कि किस प्रकार यह नेट जेआरएफ कोचिंग क्लास आरंभ से विद्यार्थियों के प्रशिक्षण व सफलता हेतु अपने सदस्यों के साथ प्रयासरत रहे जिससे विद्यार्थियों ने कोरोना जैसे विपरीत परिस्थितियों में भी अच्छा प्रदर्शन किए है ।

उन्होंने इस हेतु नेट जेआरएफ सैल के सदस्य व कुशल प्रशिक्षकों श्री दीपक कुमार,श्रीमती विद्या नेगी , श्री रजनीश जोशी, कु मोनिका, श्री रमेश कुमार , श्रीमती मोनिका भैंसोड़ा एवं श्री अशोक उप्रेती साथ ही श्री गिरीश अधिकारी एवं श्री लल्लन सिंह को भी उनके बहुमूल्य सहयोग के लिए हृदय से आभार एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आगे भी इसी प्रकार आप सभी के निरंतर सहयोग एवं सहकार से लोकहित हेतु इस ज्ञानयज्ञ को जारी रखा जाएगा ।

समाचार स्रोत: डॉ नवीन भट्ट, कुमाऊं विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा, उत्तराखण्ड.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!