भूमिहीनों गरीबों के मसीहा भारतरत्न आचार्य विनोवा भावे थे : कांग्रेस

इस समाचार को सुनें...

भूमिहीनों गरीबों के मसीहा भारतरत्न आचार्य विनोवा भावे थे : कांग्रेस | नेताओ ने कहा की आचार्य विनोवा भावे को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी बेहद सम्मान देते थे, तथा उन्होंने ही उन्हें आचार्य की उपाधि देने का काम किया था। देवभूमि समाचार के गया (बिहार) ब्यूरो चीफ अशोक शर्मा की रिपोर्ट पढ़ें…

गया, बिहार। भारतरत्न आचार्य विनोवा भावे की 40 वीं पुण्यतिथि स्थानीय चौक स्थित इंदिरा गांधी प्रतिमा स्थल प्रांगण में कांग्रेस,कांग्रेस सेवादल, एवम् इंटक के संयुक्त तत्वावधान में मनाई गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी सदस्य सह क्षेत्रीय प्रवक्ता बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रो विजय कुमार मिठू ने किया तथा संचालन कांग्रेस सेवादल के मुख्य संगठक टिंकू गिरी ने किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि देश के भूमिहीनों के लिए आजीवन भूदान आंदोलन चला कर उन्हे घर, जमीन दिलाने वाले आचार्य विनोवा भावे जी को भारत के गरीब लोग अपना मसीहा मानते है।

नेताओ ने कहा की आचार्य विनोवा भावे का भूदान आंदोलन बिहार में काफी फलीभूत हुआ तथा उन्हीं के बनाए रास्ते पर सरकार भी अमल कर राज्य के भूमिहीनों को वसीगत पर्चा बांट जमीन देने का काम किया। नेताओ ने कहा की आचार्य विनोवा भावे को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी बेहद सम्मान देते थे, तथा उन्होंने ही उन्हें आचार्य की उपाधि देने का काम किया था।

आचार्य विनोवा भावे जी को मरणोपरांत सन 1983 में इन्हे भारतरत्न से भी नवाजा गया था।कार्यक्रम को पूर्व विधायक मो खान अली, जिला उपाध्यक्ष राम प्रमोद सिंह, बाबूलाल प्रसाद सिंह, दामोदर गोस्वामी, उदय शंकर पालित, बाल्मिकी प्रसाद, जगरूप यादव, सीताराम सिंह महुएत, सतीश कुमार, मो असरफ इमाम, मो अजहरुद्दीन, सुरेंद्र मांझी, अरुण कुमार पासवान आदि ने संबोधित किया।




👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

भूमिहीनों गरीबों के मसीहा भारतरत्न आचार्य विनोवा भावे थे : कांग्रेस | नेताओ ने कहा की आचार्य विनोवा भावे को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी बेहद सम्मान देते थे, तथा उन्होंने ही उन्हें आचार्य की उपाधि देने का काम किया था। देवभूमि समाचार के गया (बिहार) ब्यूरो चीफ अशोक शर्मा की रिपोर्ट पढ़ें...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar