दूसरों की निंदा करने से बचें

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

जीवन में अगर सफलता को हासिल करना हैं तो हमेशा सकारात्मक सोच रखें और दूसरों की निंदा करने से बचें । कभी भी इधर की उधर न करें । यह आदत सही नहीं है और व्यक्ति को हमेशा इस आदत से बचकर रहना चाहिए । चूंकि यह हमारे रिश्तों को बिगाडती हैं और इससे हमारे कार्य भी प्रभावित होते हैं ।

हमेशा अच्छे लोगों का साथ करें । सही लोगों से समय – समय पर उचित मार्गदर्शन लेते रहना चाहिए । विचार – विमर्श करते रहना चाहिए । इससे कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता ही हैं । अगर किसी की सहायता करने की जरूरत भी पडे तो पीछे नहीं हटना चाहिए । अगर आपके पास कभी कम समय हो तो भी हताश व निराश नहीं होना चाहिए अपितु कोशिश इस बात की करनी चाहिए कि कम समय में काम कैसे पूरा करें ।

सदा लोगों से मधुर संबंध बनायें रखें व कम बोलें लेकिन अच्छा बोले व अच्छा सोचें तभी लोगों के साथ तालमेल स्थापित हो सकेंगे और अनुकूल वातावरण मिल सकेगा । जीवन में एक बात को सदैव याद रखें कि जो मधुर संबंध बनायें हैं उन्हें कभी भी कमजोर न होने दे चूंकि संबंध बनायें रखने में बर्सो लग जाते हैं लेकिन टूटते देर नहीं लगती हैं ।

जीवन में कार्य के दौरान घर – परिवार व मित्रों के लिए भी थोडा वक्त निकालें और आराम से साथ में बैठकर गपशप करे , मौज मस्ती करें । बस आलस को अपने पर हावो न होने दे । हमेशा आलस का त्याग करके कार्य करें । जीवन में अपने संस्कारों को बनायें रखें व कम समय में अधिक धन कमाने की लालसा में कभी भी कोई गलत रास्ता न अपनाये अन्यथा समाज में आपकी जो प्रतिष्ठा व साख हैं , मान – सम्मान व यश हैं वह एक पल में मिट्टी में मिल जायेंगा ।

जीवन को शान शौकत के साथ जीना है तो फिर दूसरों की निंदा करने से हमें क्या मिलेगा ? बस आप तो अपनी सफलता का समय खुद निर्धारित कीजिए और उसे हासिल करने के लिए जुट जायें । जब लक्ष्य निर्धारित हैं तो कोई भी ताकत आपकों आगें बढने से नहीं रोक सकती।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

8 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar