विश्वास की नींव

इस समाचार को सुनें...

सुनील कुमार माथुर

इस कलयुग में हम सभी को संगठित होकर रहना है और एक – दूसरे पर विश्वास को बनायें रखना है । यह दुनियां आज विश्वास की नींव पर ही टिकी हुई है ।‌इसलिए विश्वास को बनायें रखें व उसे कभी भी न टूटने दे । जहां विश्वास है वहीं प्रेम , स्नेह , वात्सल्य , ममता व भाईचारा हैं ‌ । यह विश्वास ही है जो हमें एक – दूसरें को मजबूती से बांधे हुए हैं ।

जहां अविश्वास , संदेह और शंका के बीज पनपते है वही अविश्वास की डोर विश्वास की नींव को तोड गलती है व मन में खटास पैदा कर देती है । अतः विश्वास को बनायें रखें और जो विश्वास पर खरा उतरता है वही अपने लक्ष्य को हासिल कर सफलता की सीढियां चढते हुए आगे बढता हैं ।

हम भले ही आर्थिक रूप से कमजोर हो सकते है लेकिन विश्वास रूपी धन के भंडार को कभी भी कमजोर मत होने दीजिए । जिस दिन विश्वास टूट गया तो समझो हम लूट गये । इस धरती पर हम अकेले अलग – थलग पड जायेगे । आप आर्थिक रूप से भले ही कमजोर हो लेकिन विश्वास रूपी धन आपके पास है तो ऐसी कोई ताकत नहीं है जो समाज में आपको नीचा दिखा सके । अतः विश्वास को बनायें रखें और इसे कभी भी न टूटने दे ।

विश्वास पर ही यह दुनियां टिकी हुई है । जहां विश्वास टूटा समझो वही हम बर्बाद हो गये । विश्वास हो तो दुश्मन भी अपने बन जाते है । विश्वास मे वह शक्ति हैं जो बिगडने काम भी बना देती है । विश्वास के चलते पराये भी अपने बन जाते है । अतः व्यक्ति को कभी भी वादा खिलाफी नही होना चाहिए । या तो किसी से वायदा मत करों और अगर किया है तो उसे समय रहते निभाना चाहिए ।

विश्वास ही हमारी अमूल्य निधी है जो हमें समाज में मान सम्मान , यश , कीर्ति व प्रतिष्ठा दिलाती है और हमें प्रगति के पथ की ओर ले जातीं है । जहां विश्वास टूटा वही हमारे सारे सपने , पद – प्रतिष्ठा धराशाही हो जाते है । विश्वास तो कदम कदम पर होना चाहिए चूंकि विश्वास ही हमारे जीवन की अमूल्य निधि है ।

हमारे बडे बुजुर्गो का कहना हैं कि ईश्वर के दर्शन और मित्र का मार्गदर्शन दोनों ही जीवन को प्रकाशित कर देते हैं । भावनाएं ही तो है जो दूर रहकर भी अपनों की नजदीकियों का अहसास कराती है वरना दूरी तो दोनो आंखों के बीच भी है ।जिंदगी में थोडा सकून भी ढूंढिए ख्वाहिशों का क्या है ये तो ता उम्र उम्र की तरह बढती रहेगी ।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

9 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!