आपके विचार

पर्यावरण संरक्षण का महत्व और इससे जुड़े कार्य

पर्यावरण संरक्षण का महत्व और इससे जुड़े कार्य, पर्यावरण संरक्षण एक व्यापक महत्व का कार्य है और इसके समग्र पहलुओं पर दृष्टिपात करने से वर्तमान समय में इस समस्या की भयावह जटिलता भी उजागर होती है। राजीव कुमार झा, लखीसराय (बिहार)

आधुनिक काल में औद्योगिक सभ्यता के विकास से धरती पर पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचा है और इससे यहां जल , वायु और वनस्पति प्रदूषण की चपेट में आकर मनुष्य के जीवन के लिए गंभीर संकट की स्थिति कायम कर रहे हैं। पिछली कुछ शताब्दियों में पृथ्वी पर मनुष्य विभिन्न प्रकार के खनिज पदार्थों के उत्खनन में खास तौर पर संलग्न हुआ है।

इनसे वर्तमान सभ्यता की जरूरतों के अनुरूप असंख्य प्रकार की वस्तुओं का उत्पादन किया जा रहा है। इसे विकास भी माना जाता है लेकिन कल कारखानों और अनाकानेक प्रकार के यातायात साधनों से उत्सर्जित कार्बन ने वायुमंडल को व्यापक रूप से प्रदूषित कर दिया है और दुनिया की ज्यादातर नदियों का जल विषाक्त हो चुका है।

वर्तमान जीवन संस्कृति ने प्रकृति के साथ मनुष्य के सदियों पुराने आत्मिक संबंधों को तहस नहस करके रख दिया है और धरती पर तापीकरण एक विकट समस्या का रूप ग्रहण करता जा रहा है। इससे आने वाले कालों में ध्रुवीय क्षेत्रों में बर्फ़ के पिघलने से समुद्र के जलस्तर में बढ़ोतरी से धरती के निचले क्षेत्रों के डूब जाने का अंदेशा भी जताया जा रहा है।

Related Articles

धरती पर खनिज संसाधन सीमित परिमाण में उपलब्ध हैं और अगले कुछ दशकों में कोयला और तेल के खत्म होने की संभावना भी प्रकट की जा रही है लेकिन कुछ दशकों तक धरती पर कायम होने वाले इनके उपभोग ने यहां प्रकृति और मनुष्य जीवन के नैसर्गिक संबंधों के तमाम सहज सूत्रों को बिखेरकर रख दिया है।

पर्यावरण संरक्षण एक व्यापक महत्व का कार्य है और इसके समग्र पहलुओं पर दृष्टिपात करने से वर्तमान समय में इस समस्या की भयावह जटिलता भी उजागर होती है। इस बारे में यह कहा जा सकता है कि सिर्फ वृक्षारोपण ही एकमात्र इस समस्या का समाधान नहीं है।

हमें पर्यावरण क्षरण के तमाम पहलुओं पर विचार करना होगा और धरती पर जलवायु परिवर्तन की प्रक्रिया को लेकर बेहद सचेत होना होगा तभी अगली शताब्दियों में आने वाली पीढ़ी को हम यहां कोई सुरक्षित संसार प्रदान कर पाएंगे। वृक्ष धरती पर जीवन के आधार हैं। इनसे मनुष्य को जीवनदायी आक्सीजन प्राप्त होता है। इसलिए धरती पर फिर से गहन वनीकरण के कार्यक्रम को शुरू किया जाना चाहिए।

आयोग ने रिकॉर्ड पांच दिन के अंदर जारी किया रक्षक भर्ती परिणाम


👉 देवभूमि समाचार में इंटरनेट के माध्यम से पत्रकार और लेखकों की लेखनी को समाचार के रूप में जनता के सामने प्रकाशित एवं प्रसारित किया जा रहा है। अपने शब्दों में देवभूमि समाचार से संबंधित अपनी टिप्पणी दें एवं 1, 2, 3, 4, 5 स्टार से रैंकिंग करें।

पर्यावरण संरक्षण का महत्व और इससे जुड़े कार्य, पर्यावरण संरक्षण एक व्यापक महत्व का कार्य है और इसके समग्र पहलुओं पर दृष्टिपात करने से वर्तमान समय में इस समस्या की भयावह जटिलता भी उजागर होती है। राजीव कुमार झा, लखीसराय (बिहार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights