साहित्य लहर

कविता : प्यार

सुनील कुमार माथुर

प्यार जबरदस्ती नहीं किया जाता हैं अपितु
प्यार दिल से होता हैं और
जब प्यार किया तो डरना क्या
प्यार परमात्मा से कीजिए

अपने माता – पिता और
बच्चों से कीजिए
बडे – बुजुर्गों से प्यार कीजिए
दीन दुखियों से प्यार कीजिए

पशु – पक्षियों से प्यार कीजिए
गुरूजनों , मित्रों व रिश्तेदारों से प्यार कीजिए
समाज व राष्ट्र से प्यार कीजिए
प्रकृति से प्रेम कीजिए
श्रेष्ठ साहित्य से प्रेम कीजिए

वृक्षों से प्रेम कीजिए
इंसानियत से प्रेम कीजिए न कि हैवानियत से
इंसानियत से प्रेम कीजिए
न धन दौलत और हैवानियत से
ज्ञानी से प्रेम कीजिए न अज्ञानी से

स्वास्थ्य से प्रेम कीजिए न बीमारियों से
सज्जन व्यक्ति से प्यार कीजिए
न कि किसी अपराधी से
भक्ति रूपी रस का सेवन कीजिए
न कि मदिरा पान कीजिए


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

स्वतंत्र लेखक व पत्रकार

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights