फीचरसाहित्य लहर

पुस्तक समीक्षा : अणुव्रत जीवन शैली विशेषांक

* संपादक : संचय जैन
* सह संपादक : मोहन मंगलम
* पृष्ठ : 384 (मई-जून अंक, वर्ष 2022)
* एक प्रति : 50/-, वार्षिक 600/-
* समीक्षक : सुनील कुमार माथुर
* संपर्क-सूत्र : अनुविभा, अणुव्रत विश्व भारती सोसायटी, अणुव्रत भवन 210 दीनदयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली

 

सुनील कुमार माथुर

अणुव्रत मासिक पत्रिका का मई – जून अंक 2022 संयुक्त अंक विशेषांक है जो अणुव्रत जीवन शैली पर आधारित है । इस विशेषांक में जाने माने ख्यातिप्राप्त जैन समाज के आचार्य , मुनियों , साध्वियों व प्रबुद्ध रचनाकारों के विचार प्रकाशित हुए है जो बहुत ही सारगर्भित , चिन्तन मनन योग्य है। आज की भागदौड भरी जिन्दगी में इंसान मशीनरी जीवन व्यतीत कर रहा हैं और वह त्याग व संयम की जीवन शैली को भूलकर धन दौलत की चकाचौंध में अंधा होकर जीवन जी रहा हैं जो परिवार , समाज व राष्ट्र के लिए ठीक नहीं है।

अणुव्रत मासिक पत्रिका ने अणुव्रत जीवन शैली पर यह विशेषांक प्रकाशित कर लोगों के जीवन में सुधार लाने का जो प्रयास किया हैं वह काफी सराहनीय है। आचार्य तुलसी ने कहा हैं कि अणुव्रत का लक्ष्य सभी क्षेत्रों में घुसी हुई विकृतियों का सुधार करना हैं । आज जीवन का कोई भी पक्ष निर्मल नहीं रहा हैं । अर्थप्रधान दृष्टि कोण ने सिध्दांतों व नीतियों को भी ताक पर रख दिया हैं एवं स्वार्थ में मनुष्य कि आंखें चुंधिया गई हैं । अर्थ को जीवन का साध्य नहीं, जीवन यापन का साधन मात्र माना जाये । आचार्य महाश्रमण ने कहा हैं कि अणुव्रत एक त्याग एवं संयम का आन्दोलन है । अगर व्यक्ति स्वंय अच्छा बन जाये तो समाज , राष्ट्र और विश्व भी अच्छा बन सकता हैं।

384 पृष्ठों के इस विशेषांक में अणुव्रत जीवन शैली , अणुव्रत आचार संहिता , युग चेतना की दिशा अणुव्रत , संयम ही जीवन है , अणुव्रत जीवन शैली के सूत्र , आनंद के आन्तरिक स्त्रोत , अणुव्रत बनाता हैं मानव को मानव , संयम की साधना से सामुदायिक सोहार्द , वाणी संयम , युवापीढ़ी के संस्कारों को सहेजना होगा , पत्रकारिता के क्षेत्र में बढता आसंयम और सामाजिक चुनौतियों , सादा जीवन और उच्च विचार मानव जीवन का श्रृंगार जैसे अनेक प्रेरणादायक , सारगर्भित व चिन्तन मनन करने वाले आलेख , गीत , प्रेरक प्रसंग , लघुकथाएं दी गई हैं जो व्यक्ति की जीवन शैली को सुधारने में काफी सहायक सिध्द होगे । इसके साथ कार्टून भी दिये गये हैं।

सभी आलेख मय चित्र दिये गये हैं । कैसी हो जीवन शैली पर आयोजित परिचर्चा में पाठकों के विचार भी काफी सारगर्भित है । संपादक मंडल ने समुद्र मंथन कर इस विशेषांक का प्रकाशन कर एक सराहनीय कार्य किया हैं और यह विशेषांक मनुष्यों को सदैव अच्छा जीवन जीने की प्रेरणा देता रहेगा। संपादक मंडल ने गागर में सागर भरने का प्रयास किया है । पुस्तक व्हाइटसएप पर मिली पर पुस्तक की छपाई , गेट अप , मेक आप काफी अच्छा हैं वही दूसरी ओर कागज की क्वालिटी भी अच्छी हैं । कुल मिलाकर यह विशेषांक मानव जीवन शैली में परिवर्तन लाने की प्रेरणा देता हैं । वही विश्व को संयम प्रधान जीवन शैली के करीब लाने का एक सार्थक प्रयास हैं।


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights