साहित्य लहर

कविता : चांद-सितारे

सुनील कुमार माथुर

पत्नी गुस्से में पतिदेव से बोली
शादी से पहले तो तुम कहते थे कि

तुम कहो तो मैं तुम्हारे लिए आसमान से
चांद-सितारे तोड लाऊं लेकिन

मैं पिछले दो दिन से तुम्हें
आलू-प्याज लाने का कह रहीं हूं

वो तो तुम आज तक लायें नहीं
चांद-सितारे क्या खाक लाओगें

पत्नी गुस्से में पतिदेव से बोली
शादी से पहले तो तुम कहते थे कि

तुम कहो तो मैं तुम्हारे लिए आसमान से
चांद-सितारे तोड लाऊं लेकिन

मैं पिछले दो दिन से तुम्हें
आलू-प्याज लाने का कह रहीं हूं

वो तो तुम आज तक लायें नहीं
चांद-सितारे क्या खाक लाओगें


¤  प्रकाशन परिचय  ¤

Devbhoomi
From »

सुनील कुमार माथुर

लेखक एवं कवि

Address »
33, वर्धमान नगर, शोभावतो की ढाणी, खेमे का कुआ, पालरोड, जोधपुर (राजस्थान)

Publisher »
देवभूमि समाचार, देहरादून (उत्तराखण्ड)

9 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Devbhoomi Samachar
Verified by MonsterInsights